नई दिल्ली. फिल्म बागी 2 में एक डायलॉग है ‘वो अकेला ही पूरी फौज के बराबर है’. लगता है इस फिल्मी डायलॉग को किंग्स इलेवन पंजाब ने बड़ा ही सीरियसली ले लिया. तभी तो वो सिर्फ लोकेश राहुल के बूते बेस्ट वर्सेज बेस्ट का मुकाबला जीतने चले थे. ये भूलकर कि फिल्म और हकीकत में थोड़ा नहीं बहुत ज्यादा का फर्क होता है. बहरहाल, सिर्फ राहुल की बल्लेबाजी पर पंजाब की डिपेंडेंसी ने उन्हें अब IPL-11 से बाहर का रास्ता दिखा दिया है. मुंबई के खिलाफ राहुल ने पंजाब को मैच बनाकर दे दिया था. 19वें ओवर में वो जब आउट हुए टीम को 9 गेंद पर 19 रन चाहिए थे, जो कि T20 फॉर्मेट में कहीं से भी मुश्किल टास्क नहीं था. लेकिन पंजाब का मिडिल ऑर्डर इतना भी दम नहीं दिखा सकी कि वो मैदान मार सके. वैसे, जीत के लिए पंजाब की निर्भरता सिर्फ इस मैच में देखने को नहीं मिली है बल्कि पूरे सीजन की रामकहानी ऐसी ही रही है. Also Read - पार्थिव पटेल बोले-टीम इंडिया को नहीं मिल सकता स्थाई विकेटकीपर, बताई वजह

पंजाब के 33% रन अकेले राहुल ने बनाए Also Read - On This Day in 2018: ये हैं CSK की ऐतिहासिक जीत के 12 नायक

लोकेश राहुल ने इस सीजन अब तक पंजाब के बल्लेबाजों के बनाए कुल रन में से 33 फीसदी रन अकेले बनाए हैं. पंजाब की ओर से लगे हर 3 में से 1 छक्का उन्होंने जड़ा है, हर 5 चौके में से 2 चौका उनके बल्ले से निकला है. IPL-11 में लक्ष्य का पीछा करते हुए लोकेश राहुल ने टीम के कुल टोटल का 44.79 प्रतिशत रन अकेले बनाए. उन्होंने अकेले 6 अर्धशतक के दम पर 482 रन बनाए. जबकि बाकी बल्लेबाजों ने मिलकर 594 रन बनाए और केवल 2 फिफ्टी जड़े. Also Read - श्रीसंत बोले-ये बैट्समैन वनडे इंटरनेशनल में ठोक सकते हैं ट्रिपल सेंचुरी, एक विदेशी सहित 3 भारतीय शामिल

जैसी जरुरत वैसी राहुल ने की जुर्रत!

इस सीजन पंजाब को जैसी जरूरत पड़ी लोकेश राहुल ने वैसा खेल दिखाया. उन्होंने 14 गेंदों पर IPL की सबसे तेज फिफ्टी का रिकॉर्ड बनाया तो 48 गेंदों पर सबसे धीमे अर्धशतक जड़ने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किय़ा. किंग्स इलेवन पंजाब ने इस सीजन अब तक 13 फिफ्टी प्लस साझेदारी की जिसमें राहुल 11 का हिस्सेदार रहे. यही नहीं वो पंजाब की ओर से IPL के एक सीजन में 600 प्लस का स्कोर करने वाले पहले भारतीय और शॉन मार्श के बाद दूसरे बल्लेबाज भी बने. शॉन मार्श ने साल 2008 में 616 रन बनाए थे. जबकि, राहुल ने इस सीजन अब तक 652 रन बना लिए हैं. यानी, वो IPL के इतिहास में पंजाब के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए हैं.

बार-बार फिरा राहुल की मेहनत पर पानी

राहुल ने मुंबई के खिलाफ लक्ष्य का पीछा करते हुए 60 गेंदों पर 94 रन बनाए, जिसमें 10 चौके और 3 छक्के शामिल रहे. लेकिन, ये कोई पहला मौका नहीं जब इस सीजन में पंजाब के बाकी बल्लेबाजों ने उनकी इतनी बड़ी मेहनत पर पानी फेरा हो. इससे पहले उन्होंने राजस्थान के खिलाफ भी नाबाद 95 रन बनाए थे. तब भी पंजाब के दूसरे बल्लेबाजों का सपोर्ट उन्हें नहीं मिला जिस वजह से टीम को हार का सामना करना पड़ा था.

पंजाब के ‘रनमशीन’ राहुल

राहुल पंजाब के लिए IPL-11 में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज तो हैं ही साथ ही वो सबसे ज्यादा छक्के और चौके लगाने वाले बल्लेबाज भी हैं. पंजाब के लिए राहुल अब तक 32 छक्के और 65 चौके जड़ चुके हैं.