चेन्नई. चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने चेपाक की धीमी पिच को भांपने में नाकाम रहने और गैर जिम्मेदाराना शाट खेलने के लिए अपने बल्लेबाजों की कड़ी आलोचना की. उन्होंने गेंदबाजों को भी फटकार लगाई कि कम स्कोर वाले मैच में किफायती गेंदबाजी जरूरी थी. बीते मंगलवार को आईपीएल के पहले क्वालीफायर मैच में मुंबई इंडियंस के साथ खेलते हुए चेन्नई पहले बल्लेबाजी करते हुए चार विकेट पर 131 रन ही बना सकी. मुंबई ने सिर्फ 18.3 ओवर में ही यह लक्ष्य हासिल कर लिया और फाइनल के लिए चुन ली गई. मुंबई ने यह मैच 6 विकेट से जीता.

धोनी ने मैच के बाद पुरस्कार वितरण समारोह में कहा, ‘‘अपने घर पर हमें हालात को अच्छे से भांपना चाहिए था. हम छह-सात मैच यहां पहले ही खेल चुके हैं और यह घर में खेलने का फायदा होता है. हमें पता होना चाहिए था कि पिच कैसी होगी. इस पर गेंद आएगी या नहीं. हमारी बल्लेबाजी बेहतर होनी चाहिए थी.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारे पास बेहतरीन बल्लेबाज हैं जो अच्छा खेल भी रहे हैं, लेकिन कई बार ऐसे शाट खेलते हैं जो नहीं खेलने चाहिए. हमने इन अनुभवी खिलाड़ियों पर भरोसा किया जिन्हें हालात का बेहतर आकलन करना चाहिए था. उम्मीद है कि अगले मैच में ऐसा ही करेंगे.’’

चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान ने आईपीएल के पहले क्वालीफायर मैच के दौरान ढीली फील्डिंग को लेकर भी दुख जताया. महेंद्र सिंह धोनी ने कहा, ‘‘गेंदबाजी में हम कई बार बदकिस्मत रहे क्योंकि कैच छूटे. हमें बल्लेबाजों को जगह देकर गेंदबाजी करनी चाहिए थी. जब स्कोर बड़ा नहीं था तो किफायती गेंदबाजी जरूरी थी.’’ उन्होंने कहा कि पिछले छह में से चार मैच हारने के बावजूद चेन्नई फाइनल की दौड़ में है. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे समय पर हारना सही नहीं है लेकिन अच्छी बात यह है कि हम शीर्ष दो में रहे. अब हमारा सफर थोड़ा लंबा हो गया लेकिन खुशकिस्मती से हमारे पास दूसरा मौका है.’’