भारतीय क्रिकेट का एक ऐसा नाम जो निरंतर अपने प्रदर्शन से पूरी दुनिया को प्रभावित तो करता है मगर टीम के चयनकर्ताओं का विश्वास जीतने में असफल रहता है. भारतीय टीम का एक ऐसा संभावित खिलाड़ी जो ड्रेसिंग रूम से प्लेइंग एलेवेन का सफर तय नहीं कर पाता है. हम बात कर रहे हैं भारतीय क्रिकेट के उस उज्ज्वल भविष्य के बारे में जिसे दुनिया मनीष पांडे (Manish Pandey) के नाम से जानती है. आज मनीष 30 साल के हो गए हैं. उनके जन्मदिन के मौके पर हम उन्हें थोड़ा और करीब से जानेंगे.

10 सितंबर 1989 को नैनीताल, उत्तराखंड में जन्मे मनीष ने अपनी स्कूलिंग केंद्रीय विद्यालय नंबर 1 देवलाली, बैंगलोर से की. तीसरी कक्षा से ही बल्लेबाजी का शौक रखने वाले मनीष फिर बाद में कर्नाटक राज्य क्रिकेट टीम का हिस्सा बन गए. धीरे-धीरे अपने सपनों को सींचते हुए मनीष आईपीएल (Indian Premier League) की दहलीज तक पहुंचे और फिर इस प्रारूप के सबसे घातक खिलाड़ियों की सूची में उन्हें रखा गया. 21 मई 2009 को मनीष ने आईपीएल की दुनिया में एक नया अध्याय जोड़ दिया था. रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के तरफ से खेलते हुए डेक्कन चार्जर्स के खिलाफ शतक लगाने के बाद, मनीष आईपीएल मुकाबले में शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए. इसके बाद वे पूणे वारियर्स, कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेले. कोलकाता के लिए खेलते हुए मनीष ने काफी शानदार पारियां खेली और वे हमेशा ही चर्चा में रहे.  2018 में उन्हें सनराइजर्स हैदराबाद में 11 करोड़ में खरीदा और वे टीम के सबसे महंगे खिलाड़ी बने. इसके बाद हैदराबाद ने उन्हें 2019 में रीटेन भी किया.

इतना लंबा इंतजार

मनीष ने अपना पहला अंतराष्ट्रीय वनडे मैच 14 जुलाई 2015 को जिम्बाब्वे के खिलाफ हरारे में खेला था. मनीष ने अब तक महज 23 वनडे मैच खेले हैं जिसमे उन्होंने 36.66 के औसत और 91.85 के स्ट्राइक रेट के साथ कुल 440 रन बनाए हैं. उनके नाम एक शतक और दो हाफ सेंचुरी भी हैं. वहीं, 31 टी-20 इंटरनेशनल्स की 26 पारियों में मनीष ने 37.66 के औसत और 1211.50 के स्ट्राइक रेट से 565 रन बनाए हैं. इनमें 11 बार वे नॉट आउट रहे हैं और दो बार हाफ सेंचुरी भी लगाई है. अपने पहले आईपीएल शतक के 6 साल बाद मनीष को टीम इंडिया में जगह मिली लेकिन ज्यादा मौके नहीं मिल पाएं.

अब जागी है उम्मीदें

विश्व कप 2019 के बाद आसार कुछ सुधरते हुए लग रहे हैं मगर वक्त ऐसे ही मेहरबान नहीं होता है. विश्व कप के बाद मनीष इंडिया ए टीम का कमान संभालते हुए दिखे और फिर सेलेक्टर्स ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाली टी-20 सीरीज में भी शामिल करने का मन बनाया है.