देश की स्टार निशानेबाज और टोक्यो ओलंपिक में भारत की पदक की उम्मीद मनु भाकर (Manu Bhaker) के लिए शुक्रवार का दिन उस वक्त निराशाजनक बन गया, जब वह दिल्ली से भोपाल के लिए उड़ान लेने से पहले एयरपोर्ट पर पहुंची थीं. यहा एयर इंडिया के दो कर्मचरियों ने उनके साथ कथित तौर पर ‘अपमान’ और ‘उत्पड़ीन’ किया है. मनु ने एयर इंडिया से इन दोनों कर्मचारियों पर बिना कोई बहाना बनाए कार्रवाई की मांग की है.Also Read - आजादी के 75 साल में पहली बार पाकिस्‍तान से तीर्थयात्र‍ी PIA की स्‍पेशल फ्लाइट से पहुंचेंगे भारत

कॉमनवेल्थ खेल और युवा ओलंपिक की स्वर्ण पदक विजेता 19 वर्षीय पिस्टल निशानेबाज मनु खेलमंत्री किरेन रिजिजू (Kiren Rijiju) के दखल के बाद ही फ्लाइट में बैठ सकीं. मनु ने इसके लिए खेलमंत्री को धन्यवाद भी दिया और उम्मीद जताई कि दिल्ली में एयर इंडिया के अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. एयर इंडिया ने भी अपने कर्मचारियों के बर्ताव के लिए माफी मांगी है. Also Read - Explained: एयर इंडिया को टाटा समूह को सौंपे जाने के बाद क्या बदलाव होगा?

Also Read - भारत में 5G से​ विमानों को नहीं है कोई खतरा, Air India से शुरू कर दी अपनी उड़ानें

मनु ने टि्वटर पर कहा, ‘मैने जो अपमान और उत्पीड़न झेला, उसके लिए वे जिम्मेदार हैं. अपने कर्मचारियों (मनोज गुप्ता और एक अन्य सुरक्षाकर्मी) को बचाने की कोशिश करके एयर इंडिया अपनी छवि और खराब करेगा.’

मनु ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर इस मामले को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर उठाया. इसके बाद खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने इसमें दखल देकर मनु की यह भोपाल यात्रा को संभव बनाने में मदद की.

इस युवा निशानेबाज ने कहा, ‘एयर इंडिया अब कह रहा है कि वे सिर्फ दस्तावेज मांग रहे थे और अपना काम कर रहे थे. लेकिन मुझे यकीन है कि सीसीटीवी में सब रिकॉर्ड होगा. आप देख सकते हैं. उन्होंने मेरा मोबाइल छीना और मेरी मां की खींची तस्वीर डिलीट की.’

रीजीजू ने इस मसले का जिक्र करते हुए मनु को ‘भारत का गौरव’ बताया. एयर इंडिया ने ट्वीट किया, ‘हम आपको हुई असुविधा के लिये क्षमाप्रार्थी हैं. हम इस मसले की विस्तार से जानकारी आपके मोबाइल नंबर के साथ चाहते हैं ताकि आपकी आगे सहायता कर सकें.’

मनु ने कहा कि अपनी पिस्तौल के साथ यात्रा करने की नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA) से मंजूरी और सारे वैध दस्तावेज साथ होने के बावजूद उनके साथ ऐसा बर्ताव किया गया. उन्होंने कहा, ‘मैने कहा भी कि मैं निशानेबाज हूं और भारत के लिए ओलंपिक खेलने वाली हूं तो उन्होंने कहा कि आप ओलंपिक खेलों या नेशनल, हमें फर्क नहीं पड़ता.’

मनु ने कहा, ‘उनका बर्ताव अस्वीकार्य था. कम से कम खिलाड़ी को थोड़ा तो सम्मान दें और इस तरह से अपमान नहीं करे. समस्या पैसा नहीं उनका बर्ताव है. मंत्रालय हमारे सभी खर्च उठाता है.’

एक अन्य पोस्ट में एयर इंडिया ने लिखा, ‘दिल्ली हवाई अड्डे पर हमारी टीम ने पुष्टि की है कि हमारे काउंटर पर अधिकारी ने सिर्फ वैध दस्तावेज मांगे थे जो नियमों के तहत था.’

इनपुट: भाषा