नई दिल्ली: टीम इंडिया के नए-नवेले सलामी बल्‍लेबाज मयंक अग्रवाल ऑस्‍ट्रेलिया में अपने प्रदर्शन से खुश हैं. हालांकि, वीरेंद्र सहवाग से अपनी तुलना को लेकर उन्‍होंने कहा है कि सहवाग ने क्रिकेट के मैदान पर जो उपलब्धियां हासिल कीं, उसका आधा भी वे कर पाए तो बड़ी बात होगी.

ऑस्ट्रेलिया सीरीज में ‘ड्रीम डेब्‍यू’ के बाद वीरेंद्र सहवाग से तुलना से गदगद मयंक अग्रवाल ने कहा कि अगर वह इस पूर्व सलामी बल्लेबाज के चमकदार करियर का आधा भी हासिल कर लेंगे तो उन्हें खुशी होगी. पूर्व भारतीय बल्लेबाज संजय मांजरेकर और उनके निजी कोच इरफान सैत को लगता है कि अग्रवाल में ‘सहवाग की थोड़ी झलक’ दिखती है. एक्‍सपर्ट्स का मानना है कि मयंक की बैटिंग की आक्रामक शैली सहवाग से मिलती-जुलती है.

ऑस्‍ट्रेलियाई सीरीज के बीच टीम में शामिल किए गए 27 साल के मयंक ने मेलबर्न और सिडनी में मौके का फायदा उठाकर 77, 76 और 42 रन की पारियां खेलीं जिसने ऑस्ट्रेलिया में भारत की पहली टेस्ट जीत में अहम भूमिका निभाई. कर्नाटक के इस बल्लेबाज ने स्वदेश लौटने के बाद कहा, ‘‘ईमानदारी से कहूं, मैं तुलना का प्रशंसक नहीं हूं लेकिन वह (सहवाग) भारतीय क्रिकेट में महान खिलाड़ियों में से एक हैं. मैं सिर्फ क्रीज पर जाकर अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहता हूं और देखना चाहता हूं कि इसमें कितना अच्छा हो सकता है. यह कहने का मेरा मतलब है कि उन्होंने (सहवाग) जो किया है, अगर मैं उसका आधा भी कर लूं तो मुझे खुशी होगी.’’

टीम इंडिया को हराने के लिए ऑस्ट्रेलिया का ‘टोटका’, 1986 की जर्सी में खेलेगी 2019 की वनडे सीरीज

ऑस्ट्रेलिया में उनकी तीनों पारियों के दौरान उनके बल्ले पर एक भी प्रायोजक का लोगो नहीं था लेकिन उन्हें उम्मीद है कि उन्हें कोई प्रायोजक मिल जाएगा. मयंक ने चोटिल पृथ्वी शॉ की जगह ली थी. शुरुआती दो टेस्ट में विफल होने के बाद लोकेश राहुल और मुरली विजय को टीम से बाहर कर दिया गया था लेकिन मयंक ने जोश हेजलवुड, पैट कमिंस ओर मिशेल स्टार्क जैसे गेंदबाजों की कड़ी चुनौती का डटकर सामना किया.

रोहित शर्मा बोले ‘झक्कास’, धोनी हैं साथ तो फिक्र की क्या बात?

अग्रवाल ने कहा, ‘‘निश्चित रूप से, एमसीजी पर डेब्‍यू करना काफी विशेष था और सबसे अहम ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतना था. हम ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीतने वाली उप महाद्वीप की पहली टीम बन गए. इससे बेहतर शुरुआत नहीं हो सकती थी.’’