नई दिल्ली. टीम इंडिया के युवा ओपनर मयंक अग्रवाल का खेल हर मैच के साथ अपनी छाप छोड़ रहा है. सिडनी टेस्ट में भी नजारा कुछ ऐसा ही दिखा, जहां 112 गेंदों का सामना कर मयंक ने 77 रन बनाए, जिसमें 7 चौके और 2 छक्के शामिल रहे. सिडनी टेस्ट में मयंक की कमाल की पारी पर विराम नाथन लियॉन ने अपनी फिरकी से लगाया. आउट होने से पहले मयंक ने दूसरे विकेट के लिए पुजारा के साथ मिलकर 116 रन की बड़ी साझेदारी की, जो कि इस मैच का टर्निंग प्वाइंट बन सकती है.

द्रविड़ के क्लब में मयंक

सिडनी टेस्ट में मयंक ने करियर का दूसरा अर्धशतक जड़ा. इसके साथ ही मयंक उन भारतीय बल्लेबाजों के क्लब में शुमार हो गए हैं जिन्होंने करियर के पहले 2 टेस्ट की पहली पारियों में 2 अर्धशतक जमाए हैं. मयंक से पहले फाडकर, राहुल द्रविड़ और अरुण लाल भी ये उपलब्धि हासिल कर चुके हैं. बता दें कि इससे पहले मयंक ने मेलबर्न टेस्ट की पहली पारी में 76 रन बनाए थे.

सिडनी टेस्ट में काली पट्टी बांधकर खेलने उतरी भारत और ऑस्ट्रेलिया, ये है ‘राज’

रन के मामले में ‘बीस’

सिडनी टेस्ट में खेली पहली पारी के जरिए मयंक वो धमाका कर चुके थे जो टेस्ट सीरीज में उनके ओहदे को टीम इंडिया के बाकी ओपनर्स पर बीस आंक रहा था. वो रन और औसत दोनों में बाकी ओपनर्स को ओपन चैलेंज कर रहे थे. मयंक ने अब तक टेस्ट सीरीज की 3 पारियों में 2 अर्धशतक के साथ 189 रन बनाए हैं. जबकि बाकी 3 भारतीय ओपनर्स यानी विजय, राहुल और हनुमा ने मिलकर 11 पारियों में सिर्फ 127 रन बनाए. इसमें एक भी अर्धशतक शामिल नहीं है.

औसत में भी नहीं कोई मुकाबला

ये तो हुई रन की बात, औसत में भी दूसरे भारतीय ओपनर्स मयंक के करीब नहीं फटकते. अगर हम बाकी 3 ओपनर के औसत को जोड़ भी दें तो भी वो मयंक के औसत से काफी कम होते हैं. मयंक ने टेस्ट सीरीज में अब तक 65 की औसत से रन बनाए हैं जबकि इनके मुकाबले मुरली विजय ने 4 पारियों में 12.25 की औसत से रन बनाए. राहुल का औसत 5 पारियों में 11.4 का रहा तो वहीं हनुमा ने 2 पारियों में 10.5 की औसत से रन बनाए.