टीम इंडिया के रोहित शर्मा के चोटिल होने के बाद न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में पृथ्वी शॉ के साथ सलामी बल्लेबाजी करने उतरे मयंक अग्रवाल को 50-50 ओवर के फॉर्मेट में खास सफलता नहीं मिली। हालांकि पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने मयंक का बचाव किया है। Also Read - Coronavirus: क्या लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ाई जाएगी? सरकार ने दिया बड़ा बयान

गंभीर का कहना है कि भले ही मयंक विस्फोटक सलामी बल्लेबाजों वीरेंदर सहवाग और डेविड वार्नर की तरह गेंदबाजों के खिलाफ अटैक नहीं करते लेकिन वो उनके पास एक ओपनर की स्पष्ट मानसिकता है। Also Read - मैं तो घर पर हूं लेकिन दिमाग वानखेड़े स्टेडियम में : सूर्यकुमार यादव

टाइम्स ऑफ इंडिया के अपने कॉलम में गंभीर ने लिखा, “मुझे मयंक पर पूरा विश्वास है। वो भले ही सबसे प्रतिभाशाली बल्लेबाज ना हो लेकिन वो सबसे ज्यादा संयोजित बल्लेबाज है। वो वीरेंदर सहवाग या डेविड वार्नर की तरह गेंदबाजों का अपमान नहीं करेगा लेकिन उसके पास एक ओपनर की स्पष्ट मानसिकता है।” Also Read - कोरोना की वजह से तबाह हो सकती है दुनिया की सबसे बड़ी ताकत, 200000 लोगों की मौत की आशंका

IPL 2020: KXIP से जुड़ने से पहले अनिल कुंबले के लिए सवालों की लिस्ट तैयार कर चुके हैं रवि बिश्नोई

न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से शुरू होने वाले पहले टेस्ट मैच में पृथ्वी शॉ या शुबमन गिल को मयंक के साथ सलामी बल्लेबाजी करने का मौका मिल सकता है। हालांकि गंभीर ने गिल या शॉ में से किसी एक को नहीं चुना लेकिन वो ये देखने के लिए उत्साहित हैं इनमें से जिस खिलाड़ी को भी मौका मिलेगा वो क्या करेगा।

उन्होंने लिखा, “हमारे पास भारत के लिए खेलने वाली एक नई सलामी जोड़ी होगी। ये देखना दिलचस्प होगा कि पृथ्वी शॉ या शुबमन गिल में से किसे मौका मिलता है और वो इस पर कैसी प्रतिक्रिया देता है।”

भारतीय प्लेइंग इलेवन में नहीं होगा बड़ा बदलाव

वेलिंगटन टेस्ट में भारत की प्लेइंग इलेवन में होने वाले संभावित बदलावों पर गंभीर ने लिखा, “टेस्ट सीरीज में जाते हुए, मुझे रातोंरात ऐसे किसी बड़े बदलाव कि उम्मीद नहीं है जिस पर लोग अपनी प्रतिक्रिया दें लेकिन मुझे खुशी है कि विराट कोहली की टीम इन आश्वासनों से काफी सुरक्षित दिखती है।”