इंग्‍लैंड में लॉर्ड्स के मैदान पर खेले गए विश्‍व कप फाइनल मुकाबले में सुपरओवर भी टाई होने के बाद ज्यादा बाउंड्री लगाने के आधार पर इंग्‍लैंड को विश्‍व विजेता घोषित किया गया। ऐसे अहम मौके पर अटपटे नियम में फंसकर विश्‍व कप जीतने का मौका गंवाने के बावजूद न्‍यूजीलैंड के कप्‍तान केन विलियमसन ने खेल भावना को बनाए रखा। जिसके चलते अब मेलबोर्न क्रिकेट क्‍लब (MCC) ने उन्‍हें सम्‍मानित करने का फैसला किया है।Also Read - टेस्ट, वनडे, टी20 फॉर्मेट में 50-50 मैच जीतने वाले दुनिया के पहले क्रिकेटर बने विराट कोहली

Also Read - चयन को लेकर कड़े फैसलों पर खिलाड़ियों के साथ स्पष्ट संवाद करना जरूरी होगा: राहुल द्रविड़

पढ़ें:- Manish Pandey Marriage: शादी में नहीं बुलाने पर राशिद खान ने ट्विटर पर मनीष पांडेय पर कसा तंज Also Read - IND vs NZ, 2nd Test Playing XI: विराट कोहली ने जीता टॉस, भारतीय टीम में 'जबरदस्त बदलाव'

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम को एमसीसी के क्रिस्टोफर मार्टिन-जेनकिंस स्प्रिट ऑफ क्रिकेट अवॉर्ड (बेहतरीन खेल भावना) 2019 का अवॉर्ड दिया गया है।

एमसीसी के अध्यक्ष कुमार संगाकारा ने कहा, “न्यूजीलैंड इस अवॉर्ड की सही मायने में हकदार थी। इस तरह की लड़ाई में उन्होंने शानदार खेल भावना का परिचय दिया था।”

पढ़ें:- IPL 2020 Auction: तेज गेंदबाज मिशेल स्‍टार्क और इस इंग्लिश बल्‍लेबाज ने बनाई आईपीएल से दूरी

संगाकारा ने कहा, “यह उनकी टीम का चरित्र ही था जो मैच के बाद भी लंबे समय तक उनके द्वारा खेली गई क्रिकेट के लिए हमेशा याद किया जाएगा। हम अभी भी खेल भावना की बात कर रहे हैं। उनका काम इस सम्मान का पूरी तरह से हकदार है।”

न्यूजीलैंड को जिस नियम से हार मिली थी उसे आईसीसी ने बाद में हटा दिया था और उस नियम की भी काफी आलोचना की गई थी। लेकिन न्यूजीलैंड टीम के सभी खिलाड़ी ने फैसले का सम्मान किया था और उसे मंजूर किया था।