नई दिल्ली : क्रिकेट कानूनों का संरक्षक माने जाने वाले मेरिलबोन क्रिकेट क्लब (एमसीसी) ने किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान आर अश्विन द्वारा राजस्थान रॉयल्स के जोस बटलर को आईपीएल के मैच में मांकड़िंग मामले की समीक्षा किए जाने के बाद अपने रूख में बदलाव करते हुए इसे खेल भावना के खिलाफ बताया. Also Read - NEET Counselling 2020 Released: MCC ने जारी किया NEET 2020 काउंसलिंग का शेड्यूल, ये रहा चेक करने का Direct Link  

एमसीसी ने इससे पहले बटलर को रन आउट करने के तरीके पर भारतीय खिलाड़ी का समर्थन किया था लेकिन एक दिन बाद उसने में मामले में अपना रूख बदल दिया. अश्विन ने सोमवार को आईपीएल के मैच में दूसरे छोर पर खड़े बटलर को रन आउट किया जबकि इससे पहले उन्हें चेतावनी भी नहीं दी. Also Read - IPL 2020 Mumbai Indians Preview: खिताब बचाने उतरेगी रोहित शर्मा की मुंबई इंडियंस

IPL 2019: मुंबई ने खतरनाक गेंदबाज को टीम में किया शामिल, RCB के खिलाफ होगा मुकाबला Also Read - IPL 2020: कोविड-19 से उबरकर राजस्थान रॉयल्स टीम से जुड़े फील्डिंग कोच दिशांत

ब्रिटिश समाचार पत्रों के मुताबिक एमसीसी के विधि प्रबंधक फ्रेजर स्टीवर्ट ने कहा, ‘‘ मामले की समीक्षा करने के बाद हमें नहीं लगता कि यह खेल भावना के तहत था. हमारा मानना ​​है कि अश्विन ने क्रीज पर पहुंचने और ठहराव के बीच ज्यादा समय लिया था. ऐसे में बल्लेबाज उम्मीद करता है कि गेंद फेंक दी गयी है. बटलर ने ऐसा ही सोचा होगा कि गेंद फेंक दी गयी है और वह अपने क्षेत्र में था.’’

धोनी की इस कला के मुरीद हैं सुरेश रैना, तारीफ में कही ये खास बात

इससे पहले एमसीसी ने मंगलवार को कहा था, ‘‘ यह क्रिकेट के नियमों कहीं नहीं है कि दूसरे छोर पर खड़े बल्लेबाज को चेतावनी दी जाए. यह क्रिकेट की खेल भावना के खिलाफ है कि दूसरे छोर पर खड़ा बल्लेबाल क्रीज से बाहर निकले जिससे उसे इसका फायदा मिलेगा.’’