मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में विक्टोरिया और वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया टीमों के बीच खेले जा रहे शेफील्ड शील्ड मैच को तब रोकना पड़ा जब पिच के असमान उछाल की वजह से बल्लेबाज बार-बार गेंद लगने से घायल होने लगे। वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मार्कस स्टोइनिस (Marcus Stoinis) और शॉन मार्श (Shaun Marsh) इस खतरनाक पिच के पसंदीदा शिकार बने क्योंकि दोनों ही बल्लेबाजों को कई बार गेंद शरीर पर लगी।

एंड्रयू फेकेट की गेंद पसलियों पर लगने के बाद जब स्टोइनिस दर्द की वजह से मैदान पर बैठ गए तो फील्ड अंपायर ने वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के कप्तान मार्श और विक्टोरिया के कप्तान पीटर हैंड्सकॉम्ब (Peter Handscomb) को बुलाकर काफी देर बातचीत की। पिच के प्रमुख क्यूरेटर मैट पेज भी इस चर्चा का हिस्सा थे।

इस गेंद के बाद पिच को भी असुरक्षित घोषित कर पहले दिन का खेल सस्पेंड कर दिया गया। खेल रोके जाने तक वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया ने तीन विकेट खोकर 89 रन बना लिए थे। माना जा रहा है कि दूसरे दिन का खेल सुबह 10 बजे से शुरू किया जा सकेगा लेकिन रविवार को पिच का मिजाज बदलेगा या नहीं इस पर कुछ साफ नहीं हो सका है।

केवल एक फॉर्मेट का स्पेशलिस्ट बल्लेबाज नहीं बनना चाहता : विराट कोहली

क्यूरेटर पेज ने दिन का खेल रद्द होने के बाद करीबन एक घंटे तक पिच को समतल करने के लिए उस पर रोलर चलवाया। उनका मानना है कि पिच पर घास के टूटे हुए टुकड़े जगह-जगह इकट्ठा होने की वजह से इस तरह का अतिरिक्त उछाल देखने को मिल रहा है।

परेशानी की बात है कि एमसीजी मैदान पर न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली सीरीज का बॉक्सिंग डे टेस्ट खेला जाना है। ऐसे में एमसीजी कि पिच एक बार फिर मुश्किल में आ सकती है।

बता दें कि साल 2017-18 की एशेज सीरीज के दौरान पिच के सपाट होने और गेंदबाजों को जरा भी मदद ना मिलने की काफी आलोचना हुई थी। जिसके बाद पिच को ‘खराब’ रेटिंग मिली थी जो कि भारत के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान ‘औसत’ तक ही पहुंच पाई थी।