मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में विक्टोरिया और वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया टीमों के बीच खेले जा रहे शेफील्ड शील्ड मैच को तब रोकना पड़ा जब पिच के असमान उछाल की वजह से बल्लेबाज बार-बार गेंद लगने से घायल होने लगे। वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज मार्कस स्टोइनिस (Marcus Stoinis) और शॉन मार्श (Shaun Marsh) इस खतरनाक पिच के पसंदीदा शिकार बने क्योंकि दोनों ही बल्लेबाजों को कई बार गेंद शरीर पर लगी। Also Read - IPL 2021: 92 रनों की मैचविनिंग पारी पर बोले शिखर धवन- अब बड़े शॉट खेलने से नहीं डरता हूं

Also Read - BBL 2020-21,Melbourne Stars vs Hobart Hurricanes: दिल्ली कैपिटल्स की ओर से IPL 2020 में जलवा बिखेर चुके इस कंगारू खिलाड़ी ने अब बीबीएल में खेली धांसू पारी

एंड्रयू फेकेट की गेंद पसलियों पर लगने के बाद जब स्टोइनिस दर्द की वजह से मैदान पर बैठ गए तो फील्ड अंपायर ने वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया के कप्तान मार्श और विक्टोरिया के कप्तान पीटर हैंड्सकॉम्ब (Peter Handscomb) को बुलाकर काफी देर बातचीत की। पिच के प्रमुख क्यूरेटर मैट पेज भी इस चर्चा का हिस्सा थे। Also Read - India vs Australia : बॉक्सिंग डे टेस्ट में Prithvi Shaw को खिलाए जाने की उठी मांग, इस दिग्गज ने बताई वजह

इस गेंद के बाद पिच को भी असुरक्षित घोषित कर पहले दिन का खेल सस्पेंड कर दिया गया। खेल रोके जाने तक वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया ने तीन विकेट खोकर 89 रन बना लिए थे। माना जा रहा है कि दूसरे दिन का खेल सुबह 10 बजे से शुरू किया जा सकेगा लेकिन रविवार को पिच का मिजाज बदलेगा या नहीं इस पर कुछ साफ नहीं हो सका है।

केवल एक फॉर्मेट का स्पेशलिस्ट बल्लेबाज नहीं बनना चाहता : विराट कोहली

क्यूरेटर पेज ने दिन का खेल रद्द होने के बाद करीबन एक घंटे तक पिच को समतल करने के लिए उस पर रोलर चलवाया। उनका मानना है कि पिच पर घास के टूटे हुए टुकड़े जगह-जगह इकट्ठा होने की वजह से इस तरह का अतिरिक्त उछाल देखने को मिल रहा है।

परेशानी की बात है कि एमसीजी मैदान पर न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाली सीरीज का बॉक्सिंग डे टेस्ट खेला जाना है। ऐसे में एमसीजी कि पिच एक बार फिर मुश्किल में आ सकती है।

बता दें कि साल 2017-18 की एशेज सीरीज के दौरान पिच के सपाट होने और गेंदबाजों को जरा भी मदद ना मिलने की काफी आलोचना हुई थी। जिसके बाद पिच को ‘खराब’ रेटिंग मिली थी जो कि भारत के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान ‘औसत’ तक ही पहुंच पाई थी।