नई दिल्ली: मेक्सिको के खिलाफ खेले जाने वाले फीफा विश्व कप के अंतिम ग्रुप मैच को जीतकर स्वीडन का लक्ष्य 12 साल बाद फुटबॉल के इस महाकुंभ के नॉक आउट दौर में प्रवेश हासिल करना होगा. विश्व कप पिछले दो संस्करणों में गायब रही स्वीडन की टीम ने इस साल अच्छा प्रदर्शन करते हुए अंतिम-16 दौर में प्रवेश की उम्मीदों को बरकरार रखा है. स्वीडन ने दक्षिण कोरिया के खिलाफ अपने पहले मैच में 1-0 से जीत हासिल की थी, वहीं जर्मनी से उसे दूसरे ग्रुप मैच में 2-1 से हार मिली थी. ऐसे में वह ग्रुप स्तर पर तीन अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है.Also Read - IPL 2020 KKR vs MI Preview: कोलकाता-मुंबई मैच में 'हिटमैन', शुबमन, हार्दिक और रसेल पर होगी नजर

Also Read - India vs New Zealand, 2nd ODI: ऑकलैंड वनडे में इन 2 बदलाव के साथ उतर सकता है भारत

स्वीडन के साथ जर्मनी के भी तीन अंक हैं, लेकिन वह दूसरे स्थान पर है. जर्मनी को पहले मैच में मेक्सिको ने 1-0 से हराया था, वहीं दूसरे मैच में उसने स्वीडन पर 2-1 से जीत हासिल की थी. ऐसे में देखा जाए, तो स्वीडन और जर्मनी एक ही नाव पर सवार हैं. ऐसे में दोनों टीमों के मैचों के परिणामों को देखा जाएगा. इस पर भी अगर अपने अंतिम ग्रुप मैचों के बाद दोनों टीमें अंकों और गोल अंतर के आधार पर बराबर रहती हैं, तो जर्मनी और स्वीडन के बीच खेले गए मैच की विजेता टीम अंतिम-16 दौर में कदम रख लेगी. Also Read - IND v WI 3rd T20: निर्णायक T20 में इस प्लेइंग इलेवन के साथ उतर सकती है टीम इंडिया

मैच आयरलैंड के खिलाफ लेकिन नजर ‘पाकिस्तान’ पर, क्या है टीम इंडिया का टी-20 मैथमेटिक्स ?

इस परिणाम को अगर देखा गया, तो स्वीडन पूरी कोशिश के बावजूद विश्व कप से बाहर हो जाएगी. इसलिए, उसे मेक्सिको के खिलाफ न केवल मैच में अधिक से अधिक गोल कर जीत हासिल करनी है, बल्कि मेक्सिको को एक भी गोल करने का मौका नहीं देना. ताकि गोल अंतर के कारण उसकी उम्मीदों पर पानी न फिरे. स्वीडन का डिफेंस दक्षिण कोरिया के खिलाफ खेले गए मैच में अच्छा था और मौजूदा विजेता जर्मनी को दूसरे ग्रुप मैच में उसने अच्छी टक्कर दी थी.

INDvIRE: भारत के खिलाफ आयरलैंड का होगा टी-20 एग्जाम, युवा खिलाड़ियों को मिलेगा मौका !

तीसरे और अंतिम ग्रुप मैच में नॉक आउट दौर में पहले ही प्रवेश कर चुकी मेक्सिको के खिलाफ जीत के लिए उसे अपने डिफेंस और अटैक दोनों को मजबूत कर मैदान पर उतरना होगा. यह मैच उसके लिए आसान नहीं होगा, क्योंकि मेक्सिको अपनी एक भी मैच नहीं हारी है और इससे साफ जाहिर होता है कि उसके डिफेंस को तोड़ना आसान नहीं है. मेक्सिको की कोशिश इस मैच में स्वीडन को हराकर ग्रुप स्तर पर नौ अंकों के साथ शीर्ष पर बने रहने की होगी. वह भले ही अंतिम-16 दौर में प्रवेश कर चुकी हो, लेकिन स्वीडन के खिलाफ मैच में किसी तरह की लापरवाही नहीं करेगी.

धोनी-रैना-विराट की तैयारी देख डरा आयरलैंड, डबलिन में बजेगा जीत का बैंड!

टीम मेक्सिको :

गोलकीपर – जोस कोरोना, अल्फ्रेडो तलावेरा, ग्वीलमेरो ओचोआ.

डिफेंडर – हुगो अयाला, कार्लोस साल्सेडो, राफेल माक्र्वेज, हेक्टर मोरेनो, हेक्टर हरेरा, एडसन अल्वारेज.

मिडफील्डर – एरिक ग्वीटीरेज, जोनाथन डोस सांतोस, मिगुएल लायुन, गियोवानी डोस सांतोस, जेसस कोरोना, आंद्रेस ग्वारडाडो, जेवियर एक्वीनो, जेसस गेलाडरे.

फॉरवर्ड – मार्को फाबियान, राउल जिमेनेज, कार्लोस वेला, जेवियर हर्नादेज, ओरिबे पेराल्टा और हिर्विग लोजानो.

FIFA2018: स्विट्जरलैंड के खिलाड़ियों ने मैदान पर मनाया जश्न, लगा 25000 डॉलर का जुर्माना

टीम स्वीडन :

गोलकीपर – रोबिन ओल्सन, कोर्ल जोहान जॉनसन, क्रिस्टोफर नोर्डेल्ट.

डिफेंडर – मिकाएल लुस्टिग, विक्टर लिंटेलोफ, आंद्रेस ग्रांक्वैस्ट, मार्टिन ओल्सोन, लुडविग ऑगिस्टनसन, फिलिप हेलांडर, एमिल क्राफ्थ, पोंटस जानसन.

मिडफील्डर – सेबेस्टियन लार्सन, एल्बिन एकडल, एमिल फोर्सबर्ग, गुस्ताव स्वेनसन, ऑस्कर हिल्जेमार्क, विक्टर क्लासेन, मार्कस रोहदेन, जिमी दुरमाज.

फॉरवर्ड – मार्कस बर्ग, जॉन ग्वीडेटी, ओला तोइवोनेन और किएसे थेलिन.