इंग्लैंड क्रिकेट टीम एशेज की तैयारियों में जुटी हुई है लेकिन सीरीज की शुरुआत से पहले ही इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ECB) ने अपने खिलाड़ियों को मानसिक तनाव में ला दिया है. सीरीज शुरू होने में अभी भले काफी समय हो लेकिन ईसीबी ने पहले ही कह दिया है कि उसके खिलाड़ी अपने परिवार को इस सीरीज पर नहीं ले जा पाएंगे. इंग्लैंड की टीम एशेज के दौरान ऑस्ट्रेलिया में करीब 4 महीने बिताएगी.Also Read - WATCH: जो रूट की नकल करने में फेल हुए विराट कोहली, माइकल वॉन ने उड़ाया मजाक

ऐसे में कोविड- 19 के इन मुश्किल दिनों में खिलाड़ियों का अपने परिवार से दूर रहना अपने आप में चुनौतीपूर्ण है. हालांकि इस फैसले का इंग्लैंड में काफी विरोध हो रहा है. इंग्लैंड के दो पूर्व कप्तान केविन पीटरसन (Kevin Pietersen) और माइकल वॉन (Michael Vaughan) ने इसकी खुलकर आलोचना की है. Also Read - भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर के टेस्ट रनों का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं जो रूट : मार्क टेलर

इंग्लैंड की टीम इस साल नवंबर में एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया रवाना होगी. ऑस्ट्रेलिया में इन दिनों कोरोना का सख्त प्रोटोकॉल लागू है और ऐसे में इंग्लिश खिलाड़ी अपने परिवार के सदस्यों को वहां नहीं ले जा सकते हैं. लेकिन इतने लंबे दौरे के लिए परिवार से दूर रहना इंग्लिश खिलाड़ियों के लिए भी चुनौतीपूर्ण है. Also Read - ENG vs AUS: स्‍कूल की छुट्टियां, फिर भी 20 हजार सीट रह गई खाली, वॉन ने ECB से पूछा- इतने महंगे क्‍यों हैं टिकट ?

इंग्लैंड के पूर्व खिलाड़ी केविन पीटरसन ने कहा कि अगर इंग्लैंड का कोई खिलाड़ी अपने परिवार को छोड़े बिना एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया नहीं जाना चाहता, तो उनका वह समर्थन करते हैं. पीटरसन ने ट्वीट कर कहा, ‘इंग्लैंड के जो खिलाड़ी वाकई अपने परिवार को 4 महीने तक नहीं देख पाएंगे वो अगर एशेज के लिए नहीं जाना चाहते तो उन्हें मेरा पूरा समर्थन है. खिलाड़ी के लिए परिवार सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है.’

पीटरसन की ही तरह माइकल वॉन ने भी टि्वटर पर लिखा, ‘आज यह रिपोर्ट पढ़ी कि इंग्लैंड के क्रिकेटर्स इन सर्दियों में डाउन अंडर (ऑस्ट्रेलिया) में अपने परिवार के साथ नहीं ले जा पाएंगे… बहुत आसान है अगर नहीं ले जा सकते तो एशेज रद्द कर देना चाहिए.. 4 महीने अपने परिवार दूर रहना पूरी तरह अस्वीकार्य है.’

इंग्लैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज जोस बटलर ने कहा, ‘एशेज वापस लाना एक बड़ा चैलेंज है, विशेषकर तब जब आप अपने परिवार से दूर हों. कई खिलाड़ियों के छोटे बच्चे हैं, जिनके लिए उनसे दूर रहना मुश्किल है. उम्मीद करता हूं कि इसका सकारात्मक हल निकलेगा.’