मुंबई (Mumbai ODI) में बुरी तरह से पिटने के बाद भारतीय टीम (Team India) आज मेहमान ऑस्‍ट्रेलिया का सामना राजकोट (Rajkot ODI) के सौराष्‍ट्र क्रिकेट एसोसिएशन ग्राउंड में कर रही है. विराट कोहली (Virat Kohli) चाहेंगे कि पिछली हार का हिसाब बराबर करते हुए सीरीज को 1-1 से बराबरी पर लाया जाए. मैच से पहले इंग्लिश दिग्गज कप्‍तान माइकल वॉन (Michael Vaughan) ने भारतीय टीम पर निशाना साधा है. Also Read - ये 11 खिलाड़ी टीम इंडिया में बिना वापसी किए ही ले लेंगे संन्यास!

माइकल वॉन ने कहा कि वनडे क्रिकेट में विराट कोहली की कप्‍तानी वाली भारतीय टीम के इंजन में अब ज्‍यादा पावर नहीं बची है. Also Read - भारतीय पिचों पर बुरी तरह भड़के Michael Vaughan, बोले- भारत को जितनी छूट मिलेगी उतनी बेअसर दिखेगी ICC

पढ़ें:- IND vs AUS: भारत पहले करेगा बल्‍लेबाजी, रिषभ-शार्दुल बाहर, इन्‍हें मिला मौका Also Read - Devdutt Paddikal: शतक पर शतक लगा रहा है विराट कोहली का ये ओपनर बल्लेबाज, क्या IPL में RCB के लिए फिर करेगा कमाल

वॉन ने अपने ट्विटर पर लिखा, “यह देखना बेहद दिलचस्‍प होगा कि दूसरे वनडे में भारतीय टीम किस तरह से ऑस्‍ट्रेलिया को जवाब देती है. अगर भारतीय टीम सच्‍ची है तो उन्‍हें यह स्‍वीकार करना होगा कि पिछले दो विश्‍व कप में वो क्‍या चीजें हैं जिसे नहीं पा सकी है.”

“मुझे लगता है कि भारतीय टीम के इंजन रूम में पावर की कमी के कारण ऐसा हुआ है. उनका मिडल ऑर्डर कमजोर है. भारत के पास अभी भी आयोजक देश द्वारा विश्‍व कप जीतने की परंपरा को सुनिश्चित करने के लिए तीन साल का वक्‍त बचा है.”

बता दें कि विश्‍व कप 2015 और 2019 में टीम इंडिया सेमीफाइनल तक पहुंचने के बावजूद भी खिताब पर कब्‍जा नहीं कर पाई है. वहीं, 2011 में भारतीय सरजमीं पर हुए विश्‍व कप को जीतने के बाद अब विराट एंड कंपनी को 2023 में अपने घर में ही विश्‍व कप खेलना है.

पढ़ें:- ये हैं इंडिया के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज की पत्नी, सादगी में धोनी मैडम को भी देती हैं टक्कर

भारतीय टीम के लिए मध्‍यक्रम की समस्‍या हमेशा से ही बड़ी परेशानी रही है. मुंबई वनडे में भी भारत का मध्‍यक्रम पूरी तरह से विफल रहा था. विश्‍व कप 2019 की बात की जाए तो न्‍यूजीलैंड के खिलाफ सेमीफाइनल में टॉप ऑर्डर के फ्लॉप होने के बाद मध्‍यक्रम के विफल होने के कारण भारत को टूर्नामेंट से बाहर होना पड़ा था.

भारतीय टीम विश्‍व कप में अंतिम समय तक इस बात का निर्णय नहीं ले पाई थी कि नंबर-4 पर किस खिलाड़ी को बल्‍लेबाजी पर भेजा जाए.