कोरोनावायरस का कहर दिन प्रतिदिन बढ़ता ही जा रहा है. ऐसे में खेलों के जल्‍द शुरू हो पाने की संभावना कम ही नजर आ रही है. खिलाड़ी लॉकडाउन के बीच अपने घर में ही रहने को मजबूर हैं. पाकिस्तान के मुख्य कोच और मुख्य चयनकर्ता मिसबाह उल हक उचित सुरक्षा उपायों के साथ खाली स्टेडियमों में क्रिकेट गतिविधियां शुरू करवाना चाहते हैं.Also Read - Sri Lanka vs India, 2nd T20I: दूसरे होटल में शिफ्ट हुए Krunal Pandya, टीम के साथ नहीं लौट सकेंगे भारत

मिस्‍बाह उल हम मौजूदा परिस्थितियों से बहुत ज्‍यादा निराश हैं. उनका कहन है कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कुछ क्रिकेट गतिविधियां शुरू होनी चाहिए. खाली स्टेडियमों में खेलने से भी मिस्‍बाह को कोई दिक्कत नहीं है. Also Read - Atal Bimit Vyakti Kalyan Scheme: बेरोजगारों को सरकार ने 3 महीने तक दिया पैसा, कोरोना काल में गई नौकरी तो 30 दिनों के अंदर करें दावा

ऐसी खबर हैं कि इंग्लैंड एवं वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) पाकिस्तान के बीच अगस्त में मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड और साउथम्पटन में खाली स्टेडियमों में तीन टेस्ट मैचों की श्रृंखला आयोजित करने पर विचार कर रहा है. Also Read - IIMC के महानिदेशक संजय द्विवेदी का बयान, बोले- कोरोना के खिलाफ जंग में मीडिया की महत्वपूर्ण भूमिका

मिस्‍बाह ने कहा, ‘‘इस कोरोनावायरस महामारी में यह किसी के लिये भी आदर्श स्थिति नहीं है और स्वास्थ्य व सभी का स्वस्थ रहना निश्चित तौर पर हमारी प्राथमिकता होनी चाहिए लेकिन अगर उचित सुरक्षा उपायों के साथ खाली स्टेडियमों में मैचों का आयोजन होता है तो मुझे कोई परेशानी नहीं होगी.’’

इस पूर्व कप्तान ने कहा कि मार्च में पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) बीच में ही रद्द किये जाने के बाद पिछले दो महीने से खिलाड़ियों के पास घर में रहने के अलावा कोई विकल्प नहीं है.

मिसबाह ने कहा, ‘‘हर कोई घर तक सीमित है लेकिन मुझे लगता है कि घर में रह रहे लोगों को अगर क्रिकेट देखने को मिलता है तो यह काफी अच्छा होगा. जब आपके पास करने के लिये कुछ नहीं हो और आपको ज्यादा समय कोविड-19 की खबरें सुननी पड़ रही हों तो यह निराशाजनक होता है.’’

‘‘ऐसी स्थिति में खेल शुरू किये जा सकते हैं और अगर क्रिकेट शुरू होता है तो लोगों को कम से कम घर में बैठकर क्रिकेट देखने को तो मिलेगा.’’