भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्‍तान मोहम्‍मद अजहरूद्दीन को हैदराबाद क्रिकेट संघ (एचसीए) का अध्‍यक्ष चुना गया है.

विजय हजारे ट्रॉफी: पेसर गौरव के ‘पंच’ और ओझा के अर्धशतक से जीता मध्‍यप्रदेश

इससे पहले वर्ष 2017 में भी अजहर ने इसी पद के लिए नामांकन भरा था, लेकिन तब उनका नामांकन इस आधार पर निरस्त कर दिया गया था, क्योंकि वे बीसीसीआई की ओर से लगाए गए आजीवन बैन को हटाने के संबंध में कोई सबूत नहीं दे पाए थे. ये बैन उन पर कथिततौर पर मैच फिक्सिंग में शामिल होने की वजह से लगा था.

56 साल के अजहर ने भारत की ओर से 99 टेस्ट और 334 वनडे इंटरनेशनल मैच खेले हैं. इस दौरान टेस्ट में उन्होंने 6,215 और वनडे में 9,378 रन बनाए हैं. अजहर ने 47 टेस्ट और 174 वनडे मैचों में भारत की कप्‍तानी की. लेकिन मैच फिक्सिंग मामले में नाम आने के बाद बीसीसीआई ने उन पर आजीवन बैन लगा दिया था. हालांकि साल 2012 में आंध्रप्रदेश हाईकोर्ट ने उनपर लगे बैन को हटा दिया था.

वर्ल्‍ड कप में नंबर-4 पर खेलने के लिए रिषभ के पास पर्याप्‍त अनुभव नहीं था: युवराज सिंह

अजहर को चुनाव में 147-73 की विशाल बढ़त के साथ एचसीए का अध्यक्ष चुना गया है. देश के सफलतम कप्‍तानों में शुमार अजहर ने बुधवार को नामांकन दाखिल किया था. नामांकन दाखिल करने के बाद अजहर ने कहा था , ‘मैं हर किसी से बात करते हुए क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए काम करना चाहता हूं. मैं जिलास्तर पर भी क्रिकेट के विकास के लिए कुछ करना चाहता हूं.’

इस पूर्व क्रिकेटर की क्रिकेट के बाद ये नहीं प्रशासनिक पारी है.