भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्‍मद शमी (Mohammed Shami) ने यह खुलासा किया है कि वो तीन बार आत्‍महत्‍या करने का विचार मन में ला चुके हैं. सीमित ओवरों के क्रिकेट में उपकप्‍तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के साथ बातचीत के दौरान शमी ने बताया कि साल 2015 विश्‍व कप के बाद चोटिल होने के चलते वो डिप्रेशन में चले गए थे. Also Read - थूक के इस्‍तेमाल पर रोक से बिगड़ेगा गेंद-बल्‍ले का संतुलन, अनिल कुंबले का सुझाव, पिच में हो बदलाव

विश्‍व कप 2015 के बाद चोटिल मोहम्‍मद शमी (Mohammed Shami) वापसी करने में करीब डेढ़ साल का वक्‍त लगा था. शमी ने बताया, “आप जानते हैं कि रिहैब कितना मुश्किल होता है और उसके बाद पारिवारिक समस्याएं. ये सब चल रहा था और इसी बीच आईपीएल से 10-12 दिन पहले मेरा एक्सीडेंट हो गया था. मीडिया में काफी कुछ चल रहा था मेरे निजी मुद्दों को लेकर भी.” Also Read - चहल पर आपत्तिजनक टिप्‍पणी के इस्‍तेमाल के मामले में युवराज सिंह के खिलाफ शिकायत दर्ज, पुलिस ने...

शमी (Mohammed Shami) ने अपनी वापसी के पीछे परिवार द्वारा मिले समर्थन को वजह बताया है. “मुझे लगता है कि अगर मुझे मेरे परिवार का साथ नहीं मिलता तो मैं क्रिकेट छोड़ देता. मैंने तीन बार खुदकुशी करने के बारे में सोचा था. मेरे परिवार में से किसी को मेरे पर नजर रखने के लिए मेरे पास बैठना होता था. मेरा घर 24वें माले पर था और उन्हें लगता था कि मैं कहीं अपार्टमेंट से कूद न जाऊं.” Also Read - यौन उत्‍पीड़न के मामले में भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी को कोच पद से किया गया बर्खास्‍त

मोहम्‍मद शमी (Mohammed Shami) ने कहा, “लेकिन मेरा परिवार मेरे साथ था और इससे बड़ी ताकत कुछ नहीं हो सकती. वे लोग मुझसे कह रहे थे कि हर समस्या का समाधान होता है और सिर्फ अपने खेल पर ध्यान दो. जिस चीज में तुम अच्छे हो उसमें खो जाओ. इसलिए मैंने सबकुछ खो दिया. मैं नेट्स में गेंदबाजी कर रहा था. मैं रनिंग एक्सरसाइज कर रहा था. मुझे नहीं पता था कि मैं क्या कर रहा था. मैं दबाव में था.”

तेज गेंदबाज ने बताया, “अभ्यास के समय में मैं दुखी हो जाता था और मेरा परिवार मुझसे कहता था कि फोकस रहो. मेरा भाई मेरे साथ था. मेरे कुछ दोस्त मेरे साथ थे और मैं यह बात कभी नहीं भूल सकता और अगर वह लोग नहीं होते तो मैं कुछ भयानक कर जाता.”