नई दिल्लीः इंडियन क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी का समय ठीक नहीं चल रहा है. हाल ही में उनका अमेरिका के लिए वीजा आवेदन खारिज कर दिया गया. ऐसा उनके निजी जीवन में चल रहे विवाद के कारण हुआ. दरअसल, शमी और उनकी पत्नी के बीच विवाद चल रहा है. उनकी पत्नी ने उनपर घरेलू हिंसा का आरोप लगाया है. उनके खिलाफ पुलिस में मामला भी दर्ज है. वीजा खारिज होने के बाद बीसीसीआई उनके बचाव में आया. उसने फिर से वीजा दिलाने की कोशिश की.

दरअसल, इस पूरे विवाद में बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी ने अमेरिकी दूतावास को एक पत्र लिखा. इसमें शमी की उपलब्धियों और उनकी शादीशुदा जिंदगी के बारे में पुलिस की पूरी रिपोर्ट दूतावास को भेजी गई. इसके बाद उन्हें वीजा मिला. समाचार एजेंसी पीटीआई ने इस बारे में रिपोर्ट दी है. रिपोर्ट के मुताबिक माना जा रहा है कि शमी को P1 कैटोगरी में वीजा मिला है. इस कैटगरी का मतलब यह है कि शमी विदेशी टीम के अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी हैं और इसी आधार पर उनको ये वीजा दिया गया है.

एक सूत्र ने पीटीआई से कहा है कि यह सही है कि शुरुआत में शमी का वीजा आवेदन अमेरिकी दूतावास ने खारिज कर दिया था. ऐसा पाया गया था कि उनका पुलिस वेरिफिकेशन रिकॉर्ड पूरा नहीं था. जो भी हो, अब यह मसला सुलझ गया है और सभी जरूरी दस्तावेज सौंप दिए गए हैं. सूत्र ने बताया कि जब शुरुआत में वीजा आवेदन खारिज हो गया तो सीईओ राहुल जौहरी ने एक रिक्वेस्ट लेटर लिखा. इसमें शमी की उपलब्धियों और कई वर्ल्डकप में उनकी हिस्सेदारी का जिक्र था. इसके साथ ही अन्य दस्तावेज भी उपलब्ध करवाए गए.

दरअसल, 2018 के शुरुआती महीनों में विवाद के बाद शमी और उनकी पत्नी हसीन जहां अलग-अलग हो गए थे. हसीन जहां ने शमी के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट भी लिखवाई है. इसमें उन्होंने शमी पर घरेलू हिंसा करने और अन्य महिलाओं के साथ संबंध रखने का आरोप लगाया था.