भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहित शर्मा को इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें एडिशन में दिल्ली कैपिटल्स की ओर से खेलना था. लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इस लीग को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया है. मोहित ने इससे पहले चेन्नई सुपरकिंग्स की ओर से भी खेले हैं जिसकी कप्तानी महेंद्र सिंह धोनी करते हैं. अपनी अधिकतर क्रिकेट धोनी के नेतृत्व में खेलने वाले मोहित ने का कहना है कि चुनौतीपूर्ण समय में जब जिम्मेदारी लेने की बात आती है तो यह पूर्व भारतीय कप्तान सच्चे नेतृत्वकर्ता की तरह उसे स्वीकार करता है. Also Read - डोमेस्टिक लीग में तहलका मचा चुके Moksh Murgai, अब IPL खेलने की ख्वाहिश

लॉकडाउन के कारण बीमार पत्नी को धनबाद से बाहर नहीं ले जा पा रहा ये क्रिकेटर, छलका दर्द Also Read - IPL 2021 में शानदार प्रदर्शन करने वाले इन 5 खिलाड़ियों को श्रीलंका दौरे पर जाने वाले भारतीय स्क्वाड में मिल सकता है मौका

31 वर्षीय मोहित ने चेन्नई सुपरकिंग्स और भारत की तरफ से धोनी के नेतृत्व में खेला है. मोहित ने इंस्टाग्राम सत्र के दौरान कहा, ‘मैं जितने खिलाड़ियों के साथ खेला उनमें उनकी विनम्रता और कृतज्ञता की भावना उन्हें सबसे अलग करती है. एक कप्तान और नेतृत्वकर्ता में अंतर होता है और मेरा मानना है कि वह सच्चे नेतृत्वकर्ता हैं.’ Also Read - क्रिस गेल ने मालदीव में खाया जीवन का सबसे बड़ा बर्गर, वीडियो शेयर कर बोले- ब्रेकिंग न्‍यूज..

उन्होंने कहा, ‘जब टीम जीत दर्ज करती है तो वह कभी इसका श्रेय नहीं लेते लेकिन जब टीम हारती है तो उसकी पूरी जिम्मेदारी लेते है. यह एक अच्छे नेतृत्वकर्ता की निशानी होती है और इसलिए मैं उनसे इतना अधिक प्रभावित हूं.’

‘खिताब की प्रबल दावेदार है दिल्ली कैपिटल्स’

मोहित ने कहा कि जब भी आईपीएल खेला जाएगा उनकी टीम खिताब की प्रबल दावेदार होगी.

पीठ में चोट के कारण पिछले दस महीनों से क्रिकेट से बाहर रहे मोहित ने कहा, ‘मैंने आखिर में ऑपरेशन का फैसला किया और पिछले तीन महीने में फिटनेस पर ध्यान देने के बाद मैं वास्तव में दिल्ली कैपिटल्स की तरफ से खेलने के लिए उत्साहित हूं. हमारी टीम बहुत मजबूत है और उसके पास हर विभाग में अच्छे खिलाड़ी हैं जिससे हम ट्रॉफी के लिये चुनौती पेश कर सकते हैं.’

ऑस्ट्रेलियाई पेसर ने कहा-इस भारतीय बल्लेबाज को आउट करना सबसे मुश्किल, चट्टान से की तुलना

कोरोनावायरस के कारण इस समय खेल की लगभग सभी गतिविधियां ठप्प पड़ी हैं. कोविड-19 के कारण भारत में अब तक 800 से अधिक लोगों की मौत हो गई है जबकि इससे संक्रमितों की संख्या 26 हजार को पार कर गई है.