सीनियर ऑलराउंडर शाकिब अल हसन (Shakib al Hasan) पर आईसीसी की ओर से बैन लगाए जाने के बाद बांग्लादेशी टेस्ट टीम के नए कप्तान बने मोमिनुल हक (Mominal Haque) का कहना है कि वो इस नई भूमिका के लिए तैयार नहीं थे।

बुधवार को दिए एक बयान में हक ने कहा, “मैं (कप्तानी) इसके लिए कभी तैयार नहीं था और ये बिल्कुल आश्चर्यजनक था। कभी नहीं सोचा था कि मैं बांग्लादेश की टेस्ट टीम का कप्तान बनूंगा। लेकिन मुझे ये मौका मिला।”

हालांकि मोमिनुल कप्तानी मिलने हैरान हैं लेकिन उनका कहना है कि वो अतिरिक्त दबाव नहीं महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “मैं कभी कप्तानी को अतिरिक्त दबाव और जिम्मेदारी की तरह नहीं देखा क्योंकि अगर में उस तरह सोचता तो ये जरूर अतिरिक्त दबाव लगता। मैं पहले जिस तरह से खेलता था और रन बनाता है, मैं उसी तरह से खेलने की कोशिश करूंगा।”

KPL स्पॉट फिक्सिंग मामले में गिरफ्तार हुए कर्नाटक के पूर्व रणजी क्रिकेटर

उन्होंने आगे कहा, “अगर मैं ज्यादा चिंता करूंगा तो इसका प्रभाव मुझ पर पड़ेगा। अगर मैं सोचूंगा कि बतौर कप्तान मुझ पर काफी सारी जिम्मेदारी हैं और मुझे टीम को आगे ले जाना है तो निश्चित तौर पर मुझ पर दबाव बढ़ेगा। और अगर मैं इस तरह से खेलूंगा कि मुझे बतौर बल्लेबाज टीम के लिए रन बनाने हैं तो शायद उतना प्रभाव नहीं पड़ेगा।”

बतौर कप्तान मोमिनुल की पहली सीरीज भारत दौरे पर होगी। जिसके लिए वो काफी उत्साहित हैं, खासकर कि कोलकाता में होने वाले डे-नाइट टेस्ट मैच के लिए। इस बारे में मोमिनुल ने कहा, “मुझे लगता है कि ये एक शानदार मौका है। हमने फ्लडलाइट्स में या फिर गुलाबी गेंद से टेस्ट नहीं खेला है इसलिए हमें लगता है कि हमारे लिए ये अच्छा मौका है। अगर हम अच्छा क्रिकेट खेलते हैं तो ये बेहद शानदार होगा।”