नई दिल्ली. भारत से इंग्लैंड की उड़ान भरने से पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने रवि शास्त्री के साथ किए प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक बयान दिया था. विराट का बयान था, “इस दौरे पर मेजबान इंग्लैंड को ठीक वैसे ही हराएंगे जैसे साउथ अफ्रीका को उसके घर में हराया था.” कप्तान के इस बयान से हर कोई खुश था. लेकिन सवाल फिर भी थे कि आखिर जिस दौरे पर भारतीय टीम के नाकामियों का एक लंबा सिलसिला है वहां मुकाबले से पहले ही जीतने को लेकर इतनी बड़ी बात कहना कैसे मुमकिन है. पर अब पर्दा उठ चुका है और इस सवाल का जवाब भी मिल चुका है. दरअसल, विराट के इंग्लैंड में साउथ अफ्रीका जैसी जीत की इबारत लिखने के पीछे की बड़ी वजह हैं महेन्द्र सिंह धोनी . Also Read - WTC फाइनल- Shane Bond बोले- भारत से जीत सकता है न्यूजीलैंड, लेकिन करना होगा यह काम

Also Read - VIDEO देखें- कोच Ravi Shastri ने पिच क्यूरेटर के डॉगी को कराई फील्डिंग, जमकर खेले

धवन और पांड्या बने डांस पार्टनर, बाथरूम बना ‘फ्लोर’, टीममेट बोले ‘वंस मोर’, VIDEO वायरल Also Read - जडेजा-अश्विन एक साथ भी खेल सकते हैं, धीमी पिच के बावजूद वार्न-मुरलीधरन विकेट निकालते थे: सचिन

धोनी के ‘शह’ पर आया ‘विराट’ बयान

विराट के बयान के पीछे धोनी के शह का खुलासा तब हुआ जब हमने साउथ अफ्रीका में मिली भारत की जीत की पड़ताल की. साउथ अफ्रीका दौरे का शेड्यूल भारत के इंग्लैंड दौरे से ठीक उलट था. इंग्लैंड में भारत को पहले T20 सीरीज, फिर वनडे सीरीज और उसके बाद टेस्ट सीरीज खेलनी है जबकि साउथ अफ्रीका में पहले टेस्ट, फिर वनडे और तब T20 सीरीज थी.

धोनी ने बाजी पलटी!

अब जरा पूरे खेल में धोनी फैक्टर कैसे हावी है वो समझिए. टेस्ट क्रिकेट से संन्यास ले चुके धोनी भारत के साउथ अफ्रीका दौरे पर तीसरे और आखिरी टेस्ट के दौरान जुड़े थे. तीसरे टेस्ट से पहले तक भारत टेस्ट सीरीज में 0-2 से पीछे था. लेकिन जैसे ही धोनी के कदम साउथ अफ्रीका में पड़े सारा गेम ही पलट गया. टेस्ट सीरीज में क्लीन स्वीप का ख्वाब देख रही मेजबान अफ्रीकी टीम जोहांसबर्ग में खेला आखिरी टेस्ट 63 रन से हार गई और सीरीज 1-2 पर खत्म हुई.

वनडे और T20 में भी दी शिकस्त

धोनी की मौजूदगी से टेस्ट सीरीज के आखिरी मैच में लगा जीत का रोग टीम इंडिया को वनडे सीरीज के दौरान भी लगा रहा. नतीजा ये हुआ कि साउथ अफ्रीका के खिलाफ 6 वनडे मैचों की सीरीज के अगले 3 मैच भी उसने बैक टू बैक जीते. आखिरी टेस्ट मिलाकर अफ्रीकी धरती पर लगातार 4 मैच जीतने के बाद टीम इंडिया को चौथे वनडे में हार जरूर मिली लेकिन उसके बाद उसने बाकी बचे दोनों मैच जीतकर 5-1 से वनडे सीरीज सील कर ली. यही हाल T20 सीरीज का भी रहा, जिसे टीम इंडिया ने धोनी की मौजूदगी में 2-1 से जीता.

इंग्लैंड में शुरू से ही धोनी का साथ

इंग्लैंड दौरे पर अच्छी बात ये है कि धोनी शुरू से ही टीम इंडिया के साथ हैं. यानी जीत की लय शुरू से ही बनी रहेगी, जिसका फायदा टीम इंडिया को आखिर में खेले जाने वाले टेस्ट सीरीज में धोनी की न होने पर भी मिलेगा. यही वजह है कि मौजूदा दौरे पर विराट कोहली ने इंग्लैंड को साउथ अफ्रीका की तरह हराने का दम भरा है.