नई दिल्ली : इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें संस्करण में 11 अप्रैल को चेन्नई सुपर किंग्स और राजस्थान रॉयल्स के बीच जयपुर के सवाई मानसिंह स्टेडियम में खेले गए मैच से एक अलग ही जानकारी निकलकर सामने आई है. चेन्नई के कप्तान और विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने उस मैच से आईपीएल में पदार्पण कर रहे राजस्थान रॉयल्स के 17 साल युवा बल्लेबाज रियान पराग को विकेट के पीछे कैच आउट किया था. चेन्नई ने उस मैच को चार विकेट से जीता था.

उस मैच से यह जानकारी सामने निकलकर आई है कि धोनी पहली बार रियान से उस समय मिले थे, तब रियान तीन साल के थे. सोशल मीडिया एक तस्वीर वायल हो रही है, जिसमें विकेटकीपर धोनी रियान के साथ दिखाई दे रहे हैं. अब अचानक ही ऐसे जानकारी निकलकर सामने आई है, जिसमें यह कहा जा रहा है कि धोनी ने न केवल राजस्थान वाले मैच में रियान को आउट किया है, बल्कि उन्होंने लगभग 19 साल पहले रियान के पिता पराग दास को भी एक घरेलू मैच में स्टम्प आउट किया था.

धोनी ने 1999-2000 सीजन में बिहार की ओर से खेलते हुए रणजी ट्रॉफी से अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पदार्पण किया था. धोनी ने ईस्ट जोन लीग में असम के खिलाफ मैच की दूसरी पारी में रियान के पिता पराग दास को स्टम्प आउट किया था. दास ने उस मैच में 24 गेंदों पर 30 रन बनाए थे. बिहार ने इस मैच को 191 रन से जीता था.

IPL 2019 में धोनी बने ब्रैडमैन, ताड़तोड़ बैटिंग ने दिलाई उपलब्धि

क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले ने ट्विटर पर रोचक आंकड़े जारी करते हुए लिखा, “कई साल पहले रणजी ट्रॉफी का 1999-2000 सीजन में असम की दूसरी पारी का स्कोरबोर्ड देखिए. असम के ओपनर पराग दास को युवा विकेटकीपर एसएस धोनी ने स्टम्प आउट किया. पराग दास, रियान पराग के पिता हैं.” 25 अप्रैल को रियान ने कोलकाता नाइट राइर्ड्स के खिलाफ 31 गेदों पर 47 रनों की शानदारा पारी खेली थी और राजस्थान रॉयल्स की जीत में हीरो बने थे.