नई दिल्ली : राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ गुरुवार को हुए इंडियन प्रीमियर लीग 2019 के मैच में अम्पायर के निर्णय पर आपत्ती जताने के लिए चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर जुर्माना लगाया गया. इसके तहत धोनी की 50 प्रतिशत मैच फीस काट ली गई. धोनी ने आईपीएल की आचार संहिता के स्तर 2 के अपराध 2.20 को स्वीकार किया है और अपने ऊपर लगाए गए जुर्माने को मान लिया है. अहम बात यह है कि धोनी मैदान पर चले गए और इस दौरान वो काफी गुस्से में थे.

चेन्नई की पारी के आखिरी ओवर की चौथी गेंद पर अंपायर उल्हास गांधे ने बेन स्टोक्स की फुल टॉस गेंद को बीमर मानकर नो बॉल दिया लेकिन तुरंत ही वह इससे मुकर गए. इसके बाद, जडेजा अम्पायर से बात करने लगे. तब तक धोनी सीएसके के डगआउट से उठकर मैदान में आ गए. वह काफी गुस्से में दिख रहे थे. उन्होंने दोनों मैदानी अम्पायरों से बहस भी की, लेकिन दोनों अम्पायर अपने फैसले पर कायम रहे और चेन्नई को नो बॉल नहीं मिली. इस घटना से पहले चेन्नई को तीन गेंदों पर आठ रनों की दरकार थी.

VIDEO: चाहर ने ‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ को फेल होने से बचाया, रहाणे हुए OUT

ब्रावो ने धोनी को बताया दुनिया का सबसे बेहतरीन खिलाड़ी, फैन्स के लिए कही ये खास बात

बता दें कि मैच के बाद धोनी ने राजस्थान के खिलाड़ियों की तारीफ की. उन्होंने कहा, “मैच बहुत कड़ा था और राजस्थान को श्रेय देने की जरूरत है. वे अच्छा स्कोर खड़ा कर सकते थे बस कुछ रनों से चूक गए, लेकिन उन्होंने हमारी बल्लेबाजी पर दबाव बनाया. वे आखिरी ओवर तक ऐसा करने में कायम रहे.”