नई दिल्ली: चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम में कई उम्रदराज खिलाड़ी थे लेकिन इसके बावजूद वह आईपीएल-11 की चैंपियन बनने में सफल रही और उसके कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भी रविवार को मुंबई में कहा कि उम्र नहीं बल्कि फिटनेस मायने रखती है. चेन्नई ने सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हराकर तीसरी बार आईपीएल खिताब जीता. सनराइजर्स ने पहले बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर छह विकेट पर 178 रन बनाये. चेन्नई शेन वॉटसन के नाबाद 117 की मदद से दो विकेट पर 181 रन बनाकर चैंपियन बना.

धोनी से मैच के बाद टीम में अधिक उम्र के खिलाड़ियों की मौजूदगी के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि उम्र केवल नंबर है लेकिन खिलाड़ी का पूरी तरह फिट होना जरूरी है. धोनी ने कहा, ‘‘हम उम्र के बारे में बात करते हैं लेकिन फिटनेस अधिक महत्वपूर्ण है. रायडू 33 साल का है लेकिन यह वास्तव में मायने नहीं रखती. अगर आप किसी भी कप्तान से पूछोगे तो वे ऐसा खिलाड़ी चाहते हैं जो चपल हो. ’’

IPL Final में ‘मैन ऑफ द मैच’ चुने जाने के बाद भावुके हुए वॉटसन, CSK को बताया स्पेशल टीम

उन्होंने कहा, ‘‘हम अपनी कमजोरियों से वाकिफ थे. अगर वॉटसन डाइव लगाने की कोशिश करता तो वह चोटिल हो सकता था इसलिए हमने उसे ऐसा नहीं करने के लिये कहा. उम्र केवल नंबर है लेकिन आपको पूरी तरह फिट होना चाहिए.’’

धोनी ने कहा, ‘‘जब आप फाइनल में पहुंचते हो तो हर कोई अपनी भूमिका जानता है. जब आप क्षेत्ररक्षण करते हो तो आपको अपनी रणनीति के अनुसार सामंजस्य बिठाना पड़ता है. हमारे बल्लेबाज अपनी शैली से परिचित हैं. अगर किसी को यह मुश्किल लगती तो अगले बल्लेबाज के लिये भी आसान नहीं होता. ’’

सुरेश रैना ने ‘बुलेट’ की रफ्तार से आ रही गेंद को रोक किया कमाल, मिला ये खास खिताब

उन्होंने कहा, ‘‘हमें पता था कि उनकी टीम में भुवनेश्वर कुमार और राशिद खान दो अच्छे गेंदबाज हैं जो हम पर दबाव बना सकते हैं. इसलिए मैं मानता हूं कि हमारी बल्लेबाजी बहुत अच्छी रही. लेकिन हमें विश्वास था कि बीच के ओवरों में हम अच्छे रन जुटा सकते हैं.’’

धोनी से पूछा गया कि उनकी सर्वश्रेष्ठ जीत कौन सी रही उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक जीत महत्वपूर्ण होती है इसलिए एक जीत को चुनना मुश्किल है. ’’ धोनी ने बताया कि उनकी टीम कल चेन्नई जाएगी जहां वह केवल एक मैच खेल पायी थी.