पूर्व श्रीलंकाई दिग्गज कुमार संगाकारा (Kumar Sangakkara) का मानना है कि फॉर्म में वापसी करने के लिए महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) को अगले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) सीजन से पहले प्रतिद्वंद्वी क्रिकेट खेलनी होगी।Also Read - अब Sourav Ganguly समेत Jay Shah की होगी BCCI से छुट्टी!

चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के कप्तान धोनी के लिए आईपीएल का 13वां सीजन खास अच्छा नहीं रहा। धोनी ने इसी सीजन खेले 13 मैचों में 25 की खराब औसत से मात्र 200 रन बनाए। धोनी के इस प्रदर्शन का एक कारण रहा है विश्व कप 2019 और आईपीएलव 2020 के बीच लिया लंबा ब्रेक। Also Read - IPL 2022: लखनऊ फ्रेंचाइजी की कमान संभालेंगे केएल राहुल; मार्कस स्टोइनिस, रवि बिश्नोई भी शामिल

इंग्लैंड में खेले गए विश्व कप सेमीफाइनल के बाद धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से लंबा ब्रेक लिया। जिसके बाद उन्होंने वेस्टइंडीज, बांग्लादेश और न्यूजीलैंज के खिलाफ सीरीज में हिस्सा नहीं लिया। टीम इंडिया के न्यूजीलैंड से लौटने के बाद कोरोना वायरस महामारी की वजह से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट पर ब्रेक लग गया। जिस कारण चेपॉक में चल रहे सीएसके के अभ्यास कैंप को छोड़ धोनी रांची लौट गए। Also Read - मैदान पर कभी कभी हो जाती है गर्मागर्मी; जसप्रीत बुमराह के साथ विवाद पर बोले मार्को जेनसन

लॉकडाउन के दौरान धोनी को बल्लेबाजी अभ्यास करने का मौका नहीं मिला और इसका प्रभाव उनके बल्लेबाजी प्रदर्शन पर पड़ा। 13वें सीजन के दौरान किसी भी मैच में क्रीज पर धोनी सहज नहीं नजर आए।

विश्व कप विजेता कप्तान के बारे में संगाकारा ने कहा, “आपके करियर में एक सीजन या सीरीज ऐसी होगी जहां आप फॉर्म से बाहर होंगे और ये सीजन एमएस के लिए वैसा है। इसका प्रभाव टीम के भाग्य पर भी पड़ा है और ये ऐसी चीज है जिसकी आप उम्मीद भी करते हैं। आप इसका आंकलन कर सकते हैं, आप इसका आंकलन किसी भी तरीके से कर सकते हैं।”

उन्होंने कहा, “और ये एमएस के करियर के आखिरी पड़ाव पर हुआ, लेकिन इससे वो किसी भी तरह से कमतर खिलाड़ी नहीं बना जाता और ना ही वो सीएसके लिए कम अहम हो जाता है। ये उन चरणों में से एक है, जिससे उससे निपटना होगा और बाहर निकलना होगा। मुझे पता है कि वो रन बनाने के लिए भूखा है।”

पूर्व कप्तान ने आगे कहा, “जहां तक मैं धोनी को जानता हूं, वो अपने अर्धशतक से ज्यादा अपनी टीम को जिताना पंसद करेगा। वो इसी तरह का खिलाड़ी है, उसकी सोच इसी तरह की है। अगर वो टीम की जीत में थोड़ा भी योगदान कर सका, 10 रन भी बना सका तो वो खुश होगा। वो निश्चित रूप से अपने निजी फॉर्म से निराश होगा लेकिन केवल दो मैच बाकी रहते, मुझे नहीं लगता कि अब इसे सुधारने की कोशिश करने का कोई मतलब है। बात मैच जीतने के बारे में है।”

संगाकारा का कहना है कि अगला सीजन शुरू होने से पहले धोनी को अपने फॉर्म में सुधार करने की जरूरत पड़ी होगी। उन्होंने कहा, “वो यहां से जाने के बाद और अगले साल वापस आने से पहले इस चीज पर काम करना होगा। लेकिन उसे जो करना है, वो ये कि उसे इस बीच में प्रतिद्वंद्वी क्रिकेट खेलना होगा।”

उन्होंने आगे कहा, “अगर आप अंतरराष्ट्रीय या घरेलू क्रिकेट नहीं खेल रहे हैं तो आपके दो आईपीएल सीजन के बीच लंबा गैप नहीं हो सकता। उसे बेहद प्रतिद्वंद्वी होना होगा और फॉर्म में आने के लिए प्रतिद्वंद्वी क्रिकेट खेलना होगा।”