आखिर चेन्नई सुपर किंग्स (Chennai super kings) की सफलता का क्या राज है? ये एक ऐसा सवाल है जो कि तीन बार इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) ट्रॉफी जीत चुकी इस टीम के हर खिलाड़ी से पूछा जाता है। अब पूर्व सीएसके खिलाड़ी एल्बी मोर्कल (Albie Morkel) ने इसका जवाब दे दिया है। पूर्व दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर का कहना है सीएसके की सफलता के दो बड़े कारण हैं- एक तो महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) और दूसरी उनकी कप्तानी। Also Read - COVID-19: आईपीएल फ्रेंचाइजी सनराइजर्स हैदराबाद ने 10 करोड़ रुपये दिए दान, कमेंट करने से खुद को नहीं रोक पाए वॉर्नर

स्पोर्ट्स्टार से बातचीत में इस पूर्व गेंदबाज ने कहा, “धोनी बड़ी भूमिका निभाते हैं। हम सबको पता है कि भारत में धोनी का कद कितना बड़ा है और वो किस ब्रांड की क्रिकेट खेलते हैं। वो टी20 और सीमित ओवर फॉर्मेट क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक हैं और अगर वो आपको लीडर की भूमिका में मिल जाते हैं तो इसका मतलब है कि वो सफलता दिलाएंगे ही क्योंकि उन्हें अपने खिलाड़ियों से सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करवाना आता है।” Also Read - क्रिकेट के दूर रहना पृथ्वी शॉ के लिए सजा जैसा; IPL को याद कर रहा है ये भारतीय बल्लेबाज

ये बात काफी हद तक सच है क्योंकि अगर चेन्नई टीम के खिलाड़ियों के निजी आंकड़ों की बात करें तो धोनी, सुरेश रैना (Suresh Raina), ड्वेन ब्रावो (Dwayne Bravo) और शेन वॉटसन (Shane Watson) जैसे स्टार खिलाड़ियों को छोड़कर उनके पास बड़े क्रिकेटर नहीं है लेकिन ये धोनी की उन्हें सही स्थिति में उतारने की काबिलियत है, जिस वजह से वो अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर पाते हैं। Also Read - डेविड वार्नर ने की रवींद्र जडेजा की तलवारबाजी की नकल, भारतीय गेंदबाज ने दिया ऐसा जवाब

मोर्कल ने आगे कहा, “ये (सफलता) अपने कोर ग्रुप को लंबे समय तक लगातार साथ बनाए रखने और एक ही कप्तान के रहने से आती है। धोनी हर सीजन में टीम के कप्तान रहे हैं, उन दो सीजन को छोड़कर जब टीम टूर्नामेंट से बाहर था। निरंतरता उनका राज है। पिछले कुछ सीजन से, वो 10 में 8 बार फाइनल पहुंचे हैं।”

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके मोर्कल आईपीएल टूर्नामेंट को याद करते हैं लेकिन उन्हें पता है कि उनका समय बीत चुका है। पूर्व खिलाड़ी ने कहा, “मैंने स्वीकार कर लिया है कि मेरा समय बीत चुका है। आपको आगे बढ़ता होता है। मैंने अपने करियर के शानदार साल सीएसके के साथ बिताएं हैं जो आज भी सफल हैं।”