टीम इंडिया के दिग्गज खिलाड़ी महेन्द्र सिंह धोनी विकेटकीपिंग के मामले में अब उतने अच्छे हैं, जितना कि वो कुछ साल पहले थे. लेकिन वो बैटिंग के मामले में खुद को नहीं संभाल पाए हैं. ऐसा उनके पिछले कुछ मैचों के आंकड़े कहते हैं. धोनी ने पिछले 10 वनडे मुकाबलों में महज 127 रन बनाए हैं. इस दौरान वो एक भी अर्धशतक नहीं लगा पाए हैं. हालांकि विकेटकीपिंग के मामले में ठीक रहे. इस पर पूर्व दिग्गज खिलाड़ी सौरव गांगुली का कहना है कि धोनी अब भी बड़े शॉट खेल सकते हैं. वो एक चैंपियन हैं. Also Read - शिखर धवन ने अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट में पूरे किए 10 साल, फैन्‍स के साथ इस तरह शेयर की स्‍पेशल मूमेंट की खुशी

Also Read - Happy Birthday Virender Sehwag: टेस्ट क्रिकेट में 2 ट्रिपल सेंचुरी जड़ने वाले इकलौते भारतीय हैं 'नजफगढ़ के नवाब', यहां देखें उनके कुछ चुनिंदा रिकॉर्डस

गांगुली ने धोनी का जिक्र करते हुए कहा वह अब भी बड़े छक्के लगाने में सक्षम हैं और उन्हें टीम में बने रहना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘‘वह एक और चैंपियन है. विश्व टी20 में जीत के बाद पिछले 12-13 वर्षों से उनका शानदार करियर रहा. जिंदगी में आप जो भी काम कर रहे हो, जहां भी हो, आप की जो भी उम्र है या आपके पास जितना भी अनुभव है आपको शीर्ष स्तर पर लगातार अच्छा प्रदर्शन जारी रखना होगा अन्यथा कोई आपका स्थान ले लेगा.’’ Also Read - IPL 2020: लगातार 7वीं हार के बाद CSK के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी बोले-हमें परिणाम नहीं बल्कि...

गांगुली ने टीम इंडिया से बाहर होने का बताया दर्द, किस तरह प्लेइंग इलेवन में नहीं किया गया शामिल

पूर्व कप्तान गांगुली ने धोनी के क्रिकेट भविष्य पर कहा, ‘‘मैं उन्हें शुभकामना देता हूं क्योंकि हम चाहते हैं कि चैंपियन अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें. मेरा अब भी मानना है कि वह लंबे शॉट मार सकता है. वह बेजोड़ क्रिकेटर है.’’

विराट कोहली हैं ‘रनचेज’ के मास्टर तो इस मामले में दिनेश कार्तिक उनसे कम नहीं

बता दें कि धोनी ने वेस्टइंडीज के खिलाफ अक्टूबर-नवंबर में खेली गई वनडे सीरीज की 3 पारियों में सिर्फ 50 रन बनाए. इस दौरान उन्होंने 2 चौके और सिर्फ 1 छक्का लगाया. जब कि इससे पहले एशिया कप 2018 में भी प्रभावी प्रदर्शन नहीं कर पाए. हालांकि एक अहम बात यह रही कि उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टी-20 सीरीज में शामिल नहीं किया. मीडिया चली खबरों के मुताबिक धोनी ने रिषभ पंत के करियर को देखते हुए उन्हें टीम में शामिल होने का मौका दिया.