विश्‍व कप 2019 के दौरान भारतीय टीम का सफर बेहद शानदार रहा था. उन्‍हें लीग स्‍तर के मैचों तक इंग्‍लैंड के अलावा कोई अन्‍य टीम हरा नहीं पाई थी. हालांकि सेमीफाइनल में भारत को बेहद करीबी मुकाबले में न्‍यूजीलैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा. Also Read - IPL 2021 से पहले जमकर अभ्यास करेंगे MS Dhoni, Ambati Rayudu के साथ चेन्नई पहुंचे कैप्टन कूल

पूर्व कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी तमाम कवायदों के बावजूद अहम मौके पर मार्टिल गुप्टिल की डायरेक्‍ट थ्रो के चलते रनआउट हो गए. धोनी ने विश्‍व कप के बाद पहली बार उस रन आउट के संबंध में चुप्‍पी तोड़ी. Also Read - India vs England: जो रूट चाहते हैं भारतीय स्पिनरों का बहादुरी से सामना करें इंग्लिश बल्लेबाज

इंडिया टुडे के कार्यक्रम के दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने कहा, “मैं बार-बार खुद से यह सवाल पूछता रहता हूं कि उस दिन मैंने रनआउट से बचने के लिए डाइव क्‍यों नहीं लगाई थी.” Also Read - WATCH: सर्जरी के बाद मैदान पर लौटे रवींद्र जडेजा; इंग्लैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में कर सकते हैं वापसी

धोनी बेहद मामूली अंतर से दूसरा रन चुराने के प्रयास में रनआउट हो गए थे. मैच में भारत को 18 रन से हार का सामना करना पड़ा था. इसके साथ ही भारत का सफर विश्‍व कप में वहीं खत्‍म हो गया था. हाल के दिनों में हार्दिक पांड्या ने अपने बयान में कहा था कि धोनी को पवेलियन की तरफ आता देख सभी ने मैच जीतने की उम्‍मीद खो दी थी.

हारे हुए मैच में धोनी-जडेजा ने फूंकी थी जान 

सेमीफाइनल में न्‍यूजीलैंड द्वारा दिए 240 रन के लक्ष्‍य के सामने भारत ने महज पांच रन पर ही अपने शुरुआती तीन बल्‍लेबाजों के विकेट खो दिए थे. मैच में भारत की हार साफ नजर आ रही थी, लेकिन धोनी 50(72) ने ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा 77(59) के साथ मिलकर रन बनाने की जिम्‍मेदारी उठाई और 116 रन की अहम साझेदारी बनाई.

दोनों मैच जीतने के बेहद करीब तक पहुंच गए  थे, लेकिन अंतिम ओवरों में जडेजा के आउट होने के बावजूद फैन्‍स को धोनी से मैच जिताने की उम्‍मीद थी। 49वें ओवर की तीसरी गेंद पर दूसरा रन चुराने के प्रयास में मार्टिन गुप्टिल की डायरेट थ्रो से धोनी रनआउट हो गए थे.