टीम इंडिया और अफगानिस्तान के बीच दुबई में मंगलवार को खेला गया मैच काफी कुछ सिखाकर गया. टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने उतरी अफगान टीम ने मैच टाई करवा दिया. इस मुकाबले में भारत ने प्लेइंग इलेवन में कई बदलाव किए. एशिया कप 2018 में टीम की कप्तान रोहित शर्मा कर रहे हैं. लेकिन इस मैच में महेंद्र सिंह धोनी को कप्तान बनाया गया. ताकि प्लेइंग इलेवन से बाहर चल रहे खिलाड़ियों को मौका मिल सके. धोनी के लिए बतौर कप्तान यह 200वां वनडे मैच था, जो कि अच्छा साबित नहीं हुआ. इसका कारण उनका नॉट आउट होकर भी आउट होना रहा.

दरअसल डिसिजन रिव्यू सिस्टम यानि डीआरएस अब ‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ के नाम से चर्चित रहता है. क्यों कि ऐसा बहुत कम बार हुआ है जब धोनी ने डीआरएस लिया हो और वह फैसला गलत चला गया हो. धोनी अफगानिस्तान के खिलाफ इसी डीआरएस की भेंट चढ़ गए. अफगानिस्तान ने पहले बैटिंग करते हुए 252 रन बनाए. इसके जवाब में टीम इंडिया ने आखिरी गेंद पर ऑल आउट होने तक 252 रन बनाए और मुकाबला बमुश्किल टाई करवाया. टीम इंडिया के लिए लोकेश राहुल और अंबाती रायडू ओपनिंग करने आए. इस दौरान रायडू 57 रन शानदार पारी खेलकर आउट हुए. जब कि राहुल 60 रन बनाकर आउट हुए. राहुल 21वें ओवर की तीसरी गेंद पर राशिद खान की गेंद का शिकार बने.

कुलदीप यादव के नखरे पर भड़के धोनी, बोले- ‘बॉलिंग करेगा या बॉलर चेंज करें’

राहुल ने आउट होने के बाद नॉन स्ट्राइक पर खड़े दिनेश कार्तिक से चर्चा की. इसके बाद उन्होंने डीआरएस लिया. डीआरएस में भी राहुल को आउट दिया गया. इस तरह भारतीय टीम ने मैच का पहला और आखिरी रिव्यू गंवा दिया. इसका खामियाजा धोनी को उठाना पड़ा. इस मुकाबले में धोनी, ‘धोनी रिव्यू सिस्टम’ की भेट चढ़ गए. असल में धोनी 26वें ओवर की 5वीं गेंद पर अंपायर ने एलबीडब्ल्यू आउट दिया. धोनी रिव्यू लेना चाहते थे लेकिन रिव्यू न होने की वजह से उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा. लेकिन इसके बाद देखा गया कि धोनी नॉट आउट थे. गेंद स्टम्प्स को मिस करके निकल गए. इस तरह धोनी को डीआरएस न मिलने की वजह से पवेलियन लौटना पड़ा.