पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने कोरोना वायरस महामारी के बीच कोई व्यावसायिक विज्ञापन नहीं करने का फैसला किया है। धोनी फिलहाल जैविक खेती में व्यस्त हैं तथा जल्द ही पर्यावरण के अनुकूल उर्वरक का अपना ब्रांड लांच करने की तैयारी कर रहे हैं। Also Read - Happy Friendship Day: धोनी से दोस्‍ती पर रैना ने खुलकर रखी बात, कहा- वो मेरे मेंटर हैं

धोनी के मैनेजर और बचपन के मित्र मिहिर ने कहा, ‘‘उसने ब्रांड प्रचार बंद कर दिया है और कहा है कि जब तक जीवन सामान्य नहीं हो जाता तब तक वो कोई व्यावसायिक गतिविधि नहीं करेंगे।’’ Also Read - राहुल द्रविड़ बोले- धोनी ‘डाटा और आंकड़ों’ में विश्‍वास नहीं रखते, एन श्रीनिवासन ने दिया ये जवाब

आर्का स्पोर्ट्स के नाम से एमएस धोनी क्रिकेट अकादमी चलाने वाले दिवाकर ने कहा, ‘‘देशभक्ति उसके खून में है, ये देश की सेवा (सेना) करना हो या जमीन (खेती) की, वो इसे लेकर काफी जुनूनी है। उसके पास 40 से 50 एकड़ खेती की जमीन है और वो वहां पपीते, केले की जैविक खेती में व्यस्त है।’’ Also Read - नेहरा जी के वचन: IPL धोनी के लिए टीम इंडिया में वापसी का मापदंड नहीं हो सकता

इस विकेटकीपर बल्लेबाज के इंडियन प्रीमियर लीग के साथ प्रतिस्पर्धी क्रिकेट में वापसी करने की उम्मीद थी लेकिन कोविड-19 महामारी के कारण इस प्रतियोगिता में अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया।

धोनी को हाल में लॉकडाउन के दौरान ट्रैक्टर चलाते हुए देखा गया। दिवाकर ने कहा कि वे जल्द ही अपनी कंपनी नियो ग्लोबल के नाम से जैविक उर्वरक पेश करने वाले हें। उन्होंने कहा कि इस उर्वरक का धोनी के खेतों में परीक्षण किया गया है। धोनी ने जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए हाल में एक वीडियो में कीटनाशकों के बुरे प्रभाव के बारे में बताया था।

दिवाकर ने कहा, ‘‘हमार पास विशेषज्ञों और वैज्ञानिकों की टीम है और उन्होंने उर्वरक तैयार किया है और इसे दो से तीन महीने के अंदर पेश किया जाएगा। मैंने कल रात उससे बात की। ये सामान्य व्यावसायिक चर्चा थी। धोनी अपने परिवार के साथ घर में रहेगा और जन्मदिन के जश्न में ज्यादा शोरशराबा नहीं होगा।’’

ये पूछने पर कि क्या संन्यास की बात धोनी के दिमाग में है, दिवाकर ने कहा, ‘‘दोस्त होने के नाते हम क्रिकेट के बारे में बात नहीं करते। लेकिन उसे देखते हुए नहीं लगता कि वो संन्यास के बारे में सोच भी रहा है। वो आईपीएल में खेलने के लिए प्रतिबद्ध है। उसने इसके लिए कड़ी मेहनत की है। अगर आपको याद हो तो वो चेन्नई एक महीने पहले ही पहुंच गया था लेकिन इसके बाद सब कुछ बंद हो गया।’’