विश्व कप 2019 सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ अर्धशतकीय पारी खेलने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से दूर हुए पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन के साथ मैदान पर वापसी करने की उम्मीद थी। जिसके लिए धोनी जोरो-शोरों से तैयारी कर रहे थे। लेकिन कोविड-19 महामारी की वजह से टूर्नामेंट फिलहाल 15 अप्रैल तक के लिए स्थगित कर दिया गया है।Also Read - IPL 2021, SRH vs RR: सैमसन पर भारी पड़ा विलियमसन का अर्धशतक; हैदराबाद ने राजस्थान को 7 विकेट से हराया

धोनी की आईपीएल टीम के साथी खिलाड़ियों और स्टाफ के मुताबिक ये विकेटकीपर बल्लेबाज लीग के लिए खुद को तैयार करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहा था। 13वें सीजन की तैयारी के लिए धोनी स्वभाव से विपरीत एक महीने पहले ही चेन्नई पहुंच गए थे और दो मार्च को अभ्यास शुरू कर दिया था। Also Read - IPL 2021, SRH vs RR: संजू सैमसन ने खेली कप्तानी पारी; राजस्थान रॉयल्स ने बनाए 164/5 रन

13वें सीजन की नीलामी के दौरान सीएसके से जुड़े लेग स्पिनर पीयूष चावला (Piyush Chawla) ने कहा कि धोनी अपनी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग में बहुत अच्छी लय में दिखे। सीएसके की वेबसाइट के अनुसार चावला ने कहा, ‘‘माही भाई एकाग्रचित होकर अभ्यास कर रहे थे। उन्होंने उसी गंभीरता से बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग की जैसे वो मैचों में करते हैं।’’ Also Read - RCB के खिलाफ हार के बाद MI के कप्तान रोहित शर्मा ने कहा- लगातार निराश कर रहे हैं बल्लेबाज

टीम के एक यूवा लेग स्पिनर कर्ण शर्मा (Karn Sharma) ने कहा, ‘‘माही भाई हर दिन नेट्स पर दो या तीन घंटे बल्लेबाजी करते थे। वो जिस तरह से गेंद को हिट कर रहे थे उसे देखते हुए कोई नहीं कह सकता था कि वो लंबे ब्रेक के बाद वापसी कर रहे हैं। वो जिस तरह से अभ्यास कर रहे थे वो हम सभी के लिए बड़ी प्रेरणा थी।’’

टीम के गेंदबाजी कोच और पूर्व भारतीय क्रिकेटर लक्ष्मीपति बालाजी (Laxmipathy Balaji) ने धोनी को स्वाभाविक खिलाड़ी बताया और कहा कि वो सीजन के लिए तैयार दिख रहे थे। बालाजी ने कहा, ‘‘धोनी नैसर्गिक खिलाड़ी और बेहद फिट है। ऐसा नहीं लग रहा था कि वो खेल से बाहर रहे थे। वो जिस तरह से अभ्यास कर रहे थे, बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग कर रहे थे और टीम को समय दे रहे थे, उससे साफ था कि उनकी निगाहें नये सत्र पर टिकी हैं।’’