नई दिल्ली. धोनी की टीम ने अपना गढ़ एक बार फिर से सलामत रखा है. पंजाब के खिलाफ मुकाबले में चेन्नई सुपरकिंग्स ने 22 रन से बड़ी जीत दर्ज की. ये इस सीजन सुपरकिंग्स की चौथी जीत है. यानी, अब तक खेले 5 मुकाबलों में इस टीम ने अपना जीत का चौका पूरा कर लिया है.

चेन्नई की चमक बरकरार

मुकाबले में मेजबान सुपरकिंग्स ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और 20 ओवर में 2 विकेट खोकर 160 रन बनाए. फैफ डू प्लेसी की शानदार अर्धशतकीय पारी की वजह से सुपरकिंग्स का आगाज दमदार रहा. डूप्लेसी ने टीम के लिए सबसे ज्यादा 38 गेंदों पर 56 रन बनाए. इसके बाद मिडिल के ओवरों में धोनी ने डूप्लेसी की शानदार शुरुआत को खूबसूरत अंजाम दिया और सिर्फ 23 गेंदों पर नाबाद 37 रन की पारी खेली.

पंजाब को ‘अपनों’ ने लूटा!

कुल मिलाकर मेजबान टीम ने किंग्स इलेवन पंजाब को 161 रन का लक्ष्य दिया, जिसका पीछा करने उतरी पंजाब की शुरुआत बेहद खराब रही. टीम ने गेल और मयंक के तौर पर अपने 2 विकेट मैच के दूसरे ओवर में सिर्फ 7 रन पर ही गंवा दिए. हालांकि, इसके बाद राहुल और सरफराज के बीच शानदार शतकीय साझेदारी हुई. दोनों बल्लेबाजों ने अर्धशतकीय पारी खेली. लेकिन इनकी इसी पारी की वजह से पंजाब की टीम को चेन्नई की पिच पर हार से दो-चार होना पड़ा.

राहुल और सरफराज ‘विलेन’!

दरअसल, राहुल और सरफराज को मैच में जब स्टार्ट लेना चाहिए था यानी कि बड़े शॉट्स खेलने चाहिए थे तब भी वो सिंगल या डबल की फिलोस्पी को फॉलो कर टीम के बजाए अपने स्कोर को बढ़ाने में मशगूल दिख रहे थे. कप्तान अश्विन ने मैच के बाद दिए अपने बयान में बेशक इन दोनों बल्लेबाजों का बचाव किया हो लेकिन हकीकत में जो ये दोनों बल्लेबाज करते दिखे वो किसी से छिपा भी नहीं. इन दोनों बल्लेबाजों की धीमी और बिना किसी स्ट्रेटजी की बल्लेबाजी का नतीजा ये हुआ कि इन पर तो दबाव बना ही साथ साथ किंग्स के दूसरे बल्लेबाजों के लिए भी देर हो चुकी थी.

धोनी से बच नहीं सकते जनाब!

राहुल और सरफराज की लचर बल्लेबाजी और स्पिन के खिलाफ कमजोरी को धोनी भी बखूबी भांप चुके थे. लिहाजा उन्होंने अपने गेंदबाजों का इस्तेमाल भी इनके मुताबिक ही किया और अपने गढ़ को किंग्स के हाथों लूटने से 22 रन से बचाने में कामयाब रहे.