MS Dhoni’s mentor Deval Sahay passes away: भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) के मेंटर रहे देवल सहाय (Deval Sahay) का लंबी बीमारी के बाद मंगलवार को रांची के एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 73 वर्ष के थे. सहाय के परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटी और एक बेटा है. देवल के नाम से मशहूर सहाय का नाम देवब्रत था. रांची में पहली टर्फ पिच तैयार करने का श्रेय इन्हीं को जाता है. देवल को सांस लेने में तकलीफ के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें 9 अक्टूबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई थी.Also Read - सीजन के आखिरी मैच में भी CSK की हार, कप्तान MS Dhoni ने गिनाई वजह

सहाय के बेटे अभिनव आकाश सहाय ने आईएएनएस से कहा, ‘घर पर करीब 10 दिन बिताने के बाद, उन्हें फिर से एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्हें जटिलताएं पैदा हो गई थीं और आज तड़के करीब 3 बजे रांची में उनका निधन हो गया.’ Also Read - IPL 2022- RR vs CSK: चेन्नई को 5 विकेट से हराकर टॉप 2 में पहुंचा राजस्थान रॉयल्स, क्वॉलीफायर 1 में गुजरात से भिड़ंत

अंतिम संस्कार दोपहर करीब 1 बजे रांची में होगा Also Read - RR vs CSK IPL 2022 Highlights: राजस्थान की जीत में जायसवाल के बाद चमके रविचंद्रन अश्विन, प्लेऑफ में लखनऊ से दूसरा स्थान छीना

सहाय की बेटी मीनाक्षी, जो अमेरिका में रहती हैं, इन दिनों रांची में हैं. उनका अंतिम संस्कार दोपहर करीब 1 बजे रांची में होगा. इलेक्ट्रिकल इंजीनियर देवल सहाय, रांची में पहली टर्फ पिच तैयार करने में सहायक थे. मेकॉन में, जहां वे मुख्य अभियंता थे, और फिर सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड में थे, जहां से वे निदेशक (कार्मिक) के रूप में सेवानिवृत्त हुए.

धोनी के पिता ने मेकॉन में भी काम किया था. जब वह सीसीएल में थे, सहाय ने एक युवा धोनी को वजीफे पर रखा और उन्हें टर्फ पिचों पर खेलने का पहला अवसर प्रदान किया. सहाय का कैरेक्टर धोनी की बॉयोपिक बॉलीवुड फिल्म ‘एमएस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी’ (MS Dhoni: The Untold Story) में भी दिखाया गया है.