नई दिल्ली: भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के सलामी बल्लेबाज मुरली विजय को विजय हजारे ट्रॉफी के बाकी मैचों के लिए तमिलनाडु की टीम में जगह नहीं मिली है. विजय गुरुवार को मुंबई के खिलाफ हुए मैच के लिए मैदान पर नहीं पहुंचे और इसके लिए उन्होंने ‘कंधे की चोट’ को वजह बताया. इसके बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया. Also Read - PM Kisan Samman Nidhi Scheme: सावधान! 33 लाख किसान मिले हैं फर्जी, तुरंत वापस कर दें पैसे, वरना...

Also Read - Elephant Death Viral Video: एक बार फिर जानवरों के साथ हैवानियत का मामला आया सामने, हाथी पर फेंका जलता हुआ टायर, हुई मौत

तमिलनाडु क्रिकेट संघ (टीएनसीए) ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि संघ, चयन समिति और टीम के फिजियो को विजय के चोटिल होने की कोई जानकारी नहीं है. ईएसपीएन क्रिकइन्फो ने टीएनसीए के एक शीर्ष अधिकारी के हवाले से बताया कि गुरुवार सुबह 7.30 बजे विजय एसएसएन कॉलेज के मैदान पर नहीं पहुंचे और मैच शुरू होने से महज डेढ़ घंटे पहले कोच ऋषिकेश कानिटकर को अपने चोटिल होने की जानकारी दी. Also Read - कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गईं शशिकला, विक्टोरिया हॉस्पिटल की गईं रिफर

जोहान्सबर्ग जीते तो बनेगा इतिहास, कोहली के नाम दर्ज होगा ये बड़ा रिकॉर्ड

विजय हजारे ट्रॉफी के इस सत्र में विजय (33) गुजरात और गोवा के खिलाफ पहले दो मैचों में तमिलनाडु के लिए खेले. उनकी जगह बल्लेबाज प्रदोष रंजन पॉल को टीम में शामिल किया गया है. टीएनसीए पिछले कुछ समय से विजय के बर्ताव से नाखुश है.

एक अधिकारी ने कहा, “अचानक, अंतिम समय में उनकी जगह किस खिलाड़ी को टीम में शामिल करें? विजय ना ही मैदान पर पहुंचे और ना ही उन्होंने चयनकर्ताओं को अपनी चोट के बारे में बताया. यह बहुत निराशाजनक है.” टीएनसीए के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा, “यह पहली बार नहीं है जब ऐसा हुआ है. चयनकर्ता विजय के व्यवहार के कारण उन्हें रणजी ट्रॉफी टीम में भी शामिल नहीं करना चाहते हैं.”

वांडरर्स में विराट को मिली ‘खुशियों की चाबी’, अब दक्षिण अफ्रीका का करेंगे ‘दरवाजा बंद’ !

हालांकि, अधिकारी ने बताया कि टीएनसीए ने अभी तक किसी प्रकार की अनुशासनिक कार्रवाई शुरू नहीं की है. तीन मैचों में सात विकेट लेने वाले स्पिन गेंदबाज आर. अश्विन भी रविवार को आंध्र प्रदेश के खिलाफ होने वाले मैच में नहीं खेलेंगे. हालांकि, अधिकारी ने बताया कि अश्विन ने टीएनसीए से पहले ही अनुमति ले ली है.