पाकिस्तानी क्रिकेटर नासिर जमशेद (Nasir Jamshed) को पाकिस्तान सुपर लीग (PSL) स्पॉट फिक्सिंग मामले में 17 महीने जेल की सजा सुनाई गई है। जमशेद को ब्रिटिश नागरिक युसेफ अनवर और मोहम्मद एजाज के साथ गिरफ्तार किया गया था। तीनों आरोपियों ने अपना अपराध स्वीकार किया था। जमशेद को जहां 17 महीने की सजा हुई है, वहीं अनवर को 40 और एजाज को 30 महीनों की सजा सुनाई गई है। Also Read - पाकिस्तान में 'सर्जिकल स्ट्राइक' से जनता में विश्वास आया कि मोदी सरकार के नेतृत्व में देश सुरक्षित: शाह

जमशेद पर फरवरी 2018 में पीएसएल टूर्नामेंट के दौरान इस्लामाबाद यूनाइटेड और पेशावर जालिमी के बीच हुआ मैच के दौरान खिलाड़ियों को जानबूझकर खराब प्रदर्शन करने के लिए 30,000 पाउंड देने का प्रस्ताव रखने का आरोप है। मामला सामने आने के बाद तीनों आरोपियों को जेल भेज जिया गया। Also Read - पाक से राजस्थान आए करीब 700 लोग 'लापता', केंद्र ने राज्य सरकार को दिए तलाशने के निर्देश

जांच के दौरान ये भी पता चला कि इन तीनों बांग्लादेश प्रीमियर लीग 2016 के फाइनल मैच को प्रभावित करने की भी कोशिश की थी। जिसके बाद जमशेद को बीपीएल के दो डॉट गेंद फेंकने वाली योजना से जोड़ा गया था लेकिन बाद में ये आरोप हटा दिए गया। जमशेद पर फिलहाल केवल पीएसएल में स्पॉट फिक्सिंग करने का आरोप है और उन्हें उसी के हिसाब से सजा मिली है। Also Read - आर्थिक गलियारे का एक चौथाई काम भी नहीं हुआ है पूरा, क्यों चीन के आगे लाचार है पाकिस्तान?

Video: मिलिए न्यूजीलैंड के ‘जसप्रीत बुमराह’ से, हूबहू मिलता है एक्शन

जमशेद ने इस्लामाबाद फ्रेंचाइजी के शरजील खान को दूसरे ओवर की पहली दो गेंद डॉट करने के लिए कहा था। पीसीबी ने इस मामले में शरजील को पांच साल के लिए बैन कर दिया था। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की एंटी करप्शन यूनिट ने जमशेद पर 10 साल का बैन लगाया।