इंग्लैंड के पूर्व कप्तान नासिर हुसैन (Nasser Hussain) ने भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के चयन नीति पर सवाल उठाते हुए कहा है कि टीम इंडिया के पास बमुश्किल असफल होने वाले टॉप ऑर्डर के कारण इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) के टूर्नामेंटों के लिए वैकल्पिक योजना की कमी है. हुसैन ने स्टार स्पोर्ट्स के कार्यक्रम ‘क्रिकेट कनेक्टेड’में कहा, ‘मैं कहूंगा कि आईसीसी टूर्नामेंटों में परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाना नहीं बल्कि भारत का चयन गलत रहा. यह केवल एक मैच की योजना से जुड़ा हुआ नहीं है.’Also Read - Highlights India vs England 1st Test, Day-1 Stump : इंग्लैंड के 183 ऑलआउट के जवाब में भारत ने पहले दिन बनाए 21/0

‘मिडिल ऑर्डर को करना होगा ये काम’ Also Read - England vs India, 1st Test: Rishabh Pant ने दिलाया भारत को 'विकेट', खुद Virat Kohli भी रह गए दंग

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान को लगता है कि सीमित ओवरों की क्रिकेट में कप्तान विराट कोहली और उनके साथ उपकप्तान रोहित शर्मा के शानदार प्रदर्शन से मध्यक्रम हमेशा मुश्किल परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाने के लिए तैयार नहीं रहता. Also Read - 'Virat आईसीसी ट्रॉफी जीत पाएंगे या नहीं हम नहीं बता सकते; नोवाक जोकोविच भी तो...'

‘… क्या आपका मध्यक्रम इस परिस्थिति के लिए तैयार है’

बकौल नासिर हुसैन, ‘अगर कोहली और रोहित आउट हो जाते हैं और स्कोर दो विकेट पर 20 रन हो जाता है तो क्या आपका मध्यक्रम इस परिस्थिति के लिए तैयार है. भारतीय क्रिकेट के लिए यह गलत हो सकता है कि उसका शीर्ष क्रम बहुत अच्छा है. जब कोहली और रोहित शतक जड़ते हैं और मध्यक्रम के बल्लेबाजों को मौका नहीं मिलता है तो ठीक रहता है.’ हुसैन का मानना है कि जब भारत शुरू में तीन विकेट गंवा देता है तो उसके पास इसका कोई जवाब नहीं होता है.

‘तब आप संभल नहीं पाते हो’

उन्होंने कहा, ‘और अचानक आप का स्कोर तीन विकेट पर 20 रन हो जाता है और आपको (मध्यक्रम) मिशेल स्टार्क और जोश हेजलवुड का सामना करना होता है और फिर आप संभल नहीं पाते हो. इसलिए इसके लिए ‘प्लान बी’जरूरी होता है. केवल ‘प्लान ए’ से ही काम नहीं चलता है.’

‘कोहली का नजरिया धोनी से अलग’

हुसैन को कोहली का कप्तान के रूप में नजरिया पसंद है जो कि महेंद्र सिंह धोनी से भिन्न है हालांकि कुछ विभाग हैं जिनमें वह भारत के वर्तमान कप्तान से सुधार चाहते हैं. उन्होंने कहा, ‘अब भी कुछ विभाग हैं जिनमें उन्हें सुधार करने की जरूरत है. मैं उसे बदलाव करने वाला व्यक्ति मानता हूं.’