मुंबई: भारत में बास्केटबॉल के अब तक के सबसे बड़ा ‘महोत्सव’ एनबीए इन इंडिया इस खेल के प्रेमियों का दिल जीतने में सफल रहा. एक तरफ जहां ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसका जिक्र किया तो दूसरी ओर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे फिट इंडिया मूवमेंट के लिए काफी अहम करार दिया. भारत में बास्केटबॉल के खेल को लोकप्रिय बनाने और गति प्रदान करने के लिए नेशनल बास्केटबॉल एसोसिएशन (एनबीए) ने एनबीए इन इंडिया अभियान के तहत पहली बार प्री-सीजन मैचों का आयोजन किया. इंडियाना पेसर्स और सैक्रेमेंटो किंग्स ने यहां दो मुकाबले खेले, जिसे लोगों का भरपूर प्यार मिला.

एनएससीआई डोम में खेल मंत्री किरण रिजिजू सहित हजारों दर्शक इसका लुत्फ लेने पहुंचे. अन्य सेलीब्रेटीज में प्रियंका चोपड़ा, सोनम कपूर एवं राहुल बोस जैसे कई अहम बॉलीवुड सितारे शामिल रहे. दोनों मैचों में पेसर्स ने दमदार प्रदर्शन करते हुए किंग्स को शिकस्त दी और नए सीजन की शुरूआत से पहले अपने मनोबल को बढ़ाया. मैचों के साथ-साथ दर्शकों को पूर्व दिग्गज बास्केटबॉल खिलाड़ियों भी देखना नसीब हुआ. लैरी बर्ड और डिकेम्बा मुटोम्बो जैसे महान खिलाड़ियों को देखकर दर्शक खुशी से झूम उठे. प्रियंका भी मैच से पहले बर्ड से मिलीं. उन्होंने अपने इंस्टाग्राम और ट्विटर पर बर्ड के साथ फोटो भी साझा की.

एनबीए, रिलायंस फाउंडेशन और एनबीए इंडिया के साझा प्रयासों से आयोजित मैचों के दौरान दर्शकों ने बर्ड और दोनों टीमों के खिलाड़ियों के नाम के नारे लगाए. मैच की सभी टिकटें काफी पहले बिक गई थीं, जो यह दर्शाता है कि एनबीए का भारत में कितना क्रेज है. मुकाबले की सबसे महंगी टिकट करीब 85,000 रुपये की बिकी. मैच का लुत्फ उठाने के लिए 8,000 रुपये की टिकट खरीदकर स्टेडियम पहुंचे एक दर्शक रोहन सक्सेना ने कहा,मुझे अभी भी यकीन नहीं हो रहा है कि मैं एनबीए का लाइव मैच मुंबई में देख रहा हूं. मैं चाहता हूं कि हमें भारत में हर साल ऐसे मैच देखने का मौका मिले. दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बास्केटबॉल खिलाड़ी एनबीए में खेलते हैं और इन्हें लाइव देखाना किसी सपने के सच होने जैसा है. एनबीए के भारत में आने से बास्केटबॉल बहुत आगे बढ़ेगा और खिलाड़ियों को भी प्रेरणा मिलेगी.

केवल दर्शक ही नहीं बॉलीवुड के सितारें भी इसे लेकर काफी उत्सहित नजर आए. अभिनेता राहुल बोस ने कहा कि उनका मानना है कि इन मैचों से देश में बास्केटबॉल की लोकप्रियता पर काफी प्रभाव पड़ेगा. बोस ने मुकाबलों के दौरान कहा,यह बहुत शानदार है. किसी भी खेल के शीर्ष खिलाड़ियों को खेलते हुए देखना एक अलग अनुभव है. मैं एनबीए मैच देखने के लिए लॉस एंजेलिस जाता था और मैंने 2000 से 2003 के बीच लेकर्स के कई मैच देखे, लेकिन अब मैं अपने घर से दो किलोमीटर दूर ही एनबीए के मुकाबले देख सकता हूं.

पीएम मोदी ने NBA IN INDIA के पहले मैच को भारत-अमेरिका संबंधों के लिए बताया ऐतिहासिक क्षण

एशिया में एनबीए का सबसे बड़ा मार्केट चीन है. वर्ष 2002 में चीन के याओ मिंग एनबीए की शीर्ष टीमों में से एक हृयूस्टन रॉकेट्स में शामिल हुए थे. मिंग के आने के दो साल बाद ही एनबीए ने चीन में प्री-सीजन मुकाबलों को आयोजन किया और उसके बाद देश में बास्केटबाल ने अलग रफ्तार पकड़ ली.

एनबीए भारत में भी कुछ ऐसा ही करने की सोच रहा है. चीन में मौजूद पेशेवर बास्केटबाल लीग का स्तर भी काफी अच्छा है और इसके जरिए कई खिलाड़ियों को अपनी प्रतिभा को निखारने का मौका मिलता है. भारत में फिलहाल, बास्केटबॉल खिलाड़ियों के लिए एक भी पेशेवर लीग नहीं है. शनिवार को मैच देखने के लिए भारत के खेल मंत्री किरण रिजिजू भी यहां पहुंचे. उन्होंने कहा कि देश में बास्केटबॉल के खेले को आगे ले जाने के लिए सरकार पूरी कोशिश करेगी.

रिजिजू ने कहा, हम भारत में खेल को लोकप्रिय बनाना चाहते हैं और बास्केटबॉल एक ऐसा खेल है जो देश में बहुत लोकप्रिय हो सकता है. भारत में एनबीए का मैच होना एक बड़ी बात है, भले ही यह एक प्री-सीजन मैच हो. मैं निश्चित रूप से यह सुनिश्चित करने के लिए काम करुंगा कि बास्केटबॉल देश में आगे बढ़े और साथ ही यहां एक खेल संस्कृति भी पैदा हो. बास्केटबॉल को सरकार अपना पूरा समर्थन देगी. लीग शुरू करने के साथ ही साथ एनबीए चाहता है कि वह भारत में बच्चों के छोटी उम्र से ही बास्केटबॉल की ओर आकर्षित करे ताकि देश में खेल का विकास हो और इसकी लोकप्रिता भी बढ़े.

NBA IN INDIA: पहले प्री-सीजन मैच में इंडियाना पेसर्स ने सैक्रेमेंटो किंग्स को दी मात

एनबीए ने इसके लिए रिलायंस फाउंडेशन के साथ साझेदारी भी की है. रिलायंस लंबे समय से भारत में बास्केटबॉल के खेल को आगे ले जाने के लिए कार्य कर रहा है और शनिवार को यहां एक बीएमसी मराठी स्कूल में लेगेसी प्रोजेक्ट की नींव भी रखी गई. यह प्रोजेक्ट एनबीए और भारत में बॉस्केटबॉल के विकास के लिए काम कर रहे रिलायंस फाउंडेशन के बीच की साझेदारी का ही हिस्सा है. इसके तहत भारत के कई स्कूलों में एनबीए की ओर से इस खेल से जु़ड़ी आधारभूत संचरना के विकास में मदद की जाएगी तकि देश से कई बेहतरीन खिलाड़ी निकाले जा सके.