इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड (Stuart Broad) ने कहा कि इस साल के आखिर में एशेज सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलिया दौरे पर तेज गति से गेंदबाजी नहीं बल्कि लगातार दबाव बनाए रखना उनकी टीम के लिए महत्वपूर्ण होगा।Also Read - Live AUS vs ENG Test, The Ashes 2021-22, Day-2: डेविड वार्नर-मार्नस लाबुशाने का अर्धशतक, यहां देखें लाइव स्‍कोर

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर कोहनी की चोट के कारण दौरे से बाहर हो गए हैं तो वही ओली स्टोन पीठ दर्द की समस्या से परेशान हैं। Also Read - PAK vs BAN, 2nd Test: एक ही मैच में Sajid Khan ने झटके 12 विकेट, Bangladesh के खिलाफ Pakistan का क्लीन स्वीप

ऐसे में अनुभवी जेम्स एंडरसन गेंदबाजी अटैक का नेतृत्व करेंगे जिसमें मार्क वुड के रूप में सिर्फ एकमात्र गेंदबाज होगा जो लगातार 90 मील प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी कर सकता है। Also Read - Ruturaj Gaikwad ने ठोका शतक, BCCI के इस टूर्नामेंट से कर रहे हैं कप्‍तानी में डेब्‍यू

ब्रॉड को चोट से उबरने के बाद कोच क्रिस सिल्वरवुड की 17 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि आठ दिसंबर से ब्रिस्बेन में शुरू होने वाली श्रृंखला में ऑस्ट्रेलिया के लिए इंग्लैंड के पास मुख्य योजना के अलावा दूसरी योजना भी है।

‘द टेलीग्राफ’ के मुताबिक ब्रॉड ने कहा, ‘‘ मैं काफी अध्ययन कर रहा हूं और ये परखने की कोशिश कर रहा हूं कि पिछले छह सालों में ऑस्ट्रेलिया में दाएं हाथ के गेंदबाजों के खिलाफ विकेट की दोनों ओर से गेंदबाजी पर बल्लेबाज कैसे आउट हुए हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘हम अक्सर इंग्लैंड में बहुत तेज गति के बारे में बात करते हैं, लेकिन मैं जो महसूस कर रहा हूं वो उसके बारे में नहीं है। ये सही लाइन-लेंथ से गेंदबाजी के बारे में है। ये (ग्लेन) मैकग्रा जैसा है जो लंबे समय तक गेंदबाजी करते रहे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘ऑस्ट्रेलिया में काइल एबॉट और (वर्नोन) फिलेंडर (दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज) का शानदार रिकॉर्ड हैं। वे स्टंप पर गेंदबाजी करते थे। इसी तरह आपको ऑस्ट्रेलिया में सफलता मिलती है। इसलिए मैं ज्यादा चिंतित नहीं हूं।’’