नई दिल्ली. क्राइस्टचर्च टेस्ट में नतीजा मेजबान टीम के हक में रहा. न्यूजीलैंड ने श्रीलंका को हराकर 2 टेस्ट मैचों की सीरीज पर 1-0 से कब्जा कर लिया. इससे पहले दोनों टीमों के बीच वेलिंग्टन में खेला गया पहला टेस्ट मैच ड्रॉ रहा था. सीरीज के दूसरे टेस्ट में कीवी टीम ने श्रीलंका के सामने जीत के लिए 660 रन का रिकॉर्ड लक्ष्य रखा था लेकिन वो सिर्फ 236 रन पर ही ऑल आउट हो गए और 423 रन के बड़े अंतर से मुकाबला गंवा बैठे.

विराट की कप्तानी का रहा साल 2018 में ‘बोलबाला’, भारतीय क्रिकेट के हर बड़े रिकॉर्ड का टूटा ‘ताला’

12 मिनट, 14 गेंद पर जीत मिली बड़ी

कमाल बात ये है कि 5वें दिन श्रीलंकाई टीम जब जीत के लक्ष्य को हासिल करने मैदान पर उतरी तो उसके 6 विकेट पर 231 रन थे हाथ में 4 विकेट बचे थे. लकिन, कीवी गेंदबाजों ने उनके 4 बल्लेबाजों की कहानी सिर्फ अगले 14 गेंदों में खत्म कर दी और ऐसा करने के लिए उन्होंने सिर्फ 12 मिनट का समय लिया.

न्यूजीलैंड की बड़ी जीत, श्रीलंका की बड़ी हार

क्राइस्टचर्च टेस्ट में 423 रन के फासले ने न्यूजीलैंड और श्रीलंका दोनों के लिए रिकॉर्ड की नई स्क्रिप्ट लिखी. ये रनों के लिहाज से जहां न्यूजीलैंड की सबसे बड़ी टेस्ट जीत है वहीं श्रीलंका की सबसे बड़ी टेस्ट हार. इस जीत के साथ न्यूजीलैंड ने रनों के लिहाज से 2 साल पुराने अपने सबसे बड़े जीत के रिकॉर्ड को तोड़ा तो वहीं भारत के हाथों मिली सबसे ज्यादा रन से श्रीलंका की हार का रिकॉर्ड भी टूट गया. 2 साल पहले यानी साल 2016 में कीवी टीम ने जिम्बाब्वे को 256 रन से शिकस्त दी थी. वहीं श्रीलंका को 2017 में खेले टेस्ट में भारत ने 304 रन से हराया था.

धोनी के टेस्ट रिटायरमेंट वाले दिन विराट एंड कंपनी ने मेलबर्न में रचा इतिहास

ICC रैंकिंग में नंबर 3 पर न्यूजीलैंड

ये न्यूजीलैंड की लगातार चौथी टेस्ट सीरीज जीत है. इस जीत का असर ICC रैंक में उसके हेल्थ पर भी पड़ा है, जहां वो अब 105 रेटिंग प्वाइंट तीसरे नंबर पर पहुंच चुका है.