भारत में दिनों दिन बिगड़ रहे कोविड- 19 (Covid 19) के हालात से विदेशी क्रिकेटर भी चिंतित हैं. इन दिनों भारत में खेली जा रही इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2021) में भाग लेने आए कई विदेशी क्रिकेटर इस मुश्किल घड़ी में मदद को आगे आए हैं. वेस्टइंडीज के खिलाड़ी और पंजाब किंग्स (PBKS) के धांसू बल्लेबाज निकोलस पूरन (Nicholas Pooran) ने भी अपनी आईपीएल से होने वाली कमाई का कुछ हिस्सा कोरोना से लड़ रहे भारत को दान देने का फैसला किया है.Also Read - अतिरिक्‍त प्रयास करते तो बन जाता लक्ष्‍य, विलियमसन ने माना विकेट गंवाने से हाथ से फिसला मैच

इस घातक महामारी से देश में दिनों-दिन हालात चिंताजनक हो रहे हैं. यहां रोजाना इस वायरस से संक्रमितों की संख्या प्रतिदिन 4 लाख के करीब पहुंचती दिख रही है. गुरुवार को देश में 3 लाख 86 हजार नए संक्रमित मामले सामने आए. पूरन ने इसके साथ ही भारत के लोगों से जल्द से जल्द टीका (वैक्सीन) लगवाने का अनुरोध किया है. Also Read - टी20 करियर में डेविड वॉर्नर के 400 छक्के पूरे, क्रिस गेल से साथ लिस्ट में बनाई जगह

Also Read - Kieron Pollard की जगह Nicholas Pooran को मिली वेस्टइडीज की कमान

ट्विटर पर जारी वीडियो में पूरन ने कहा, ‘अगर आप टीका लगवा सकते हैं तो कृपया इसे कीजिए, मैं अपने हिस्सा का काम करूंगा, जिसमें भारत के लिए प्रार्थना करना जारी रखने के साथ-साथ इस संकट से उबरने के लिए अपने आईपीएल वेतन का एक हिस्सा दान करना चाहूंगा.’

वेस्टइंडीज का प्रतिनिधित्व करने वाले 25 साल के इस क्रिकेटर को पता है कि इस संकट से देश की स्वास्थ्य प्रणाली भी जूझ रही है. उन्होंने कहा, ‘मैं दुनिया भर में अपने सभी प्रशंसकों एवं समर्थकों को बताना चाहता हूं कि मैं भारत में आईपीएल (बायो-बबल) में सुरक्षित और बेहतर स्थिति में हूं.’

उन्होंने कहा, ‘लेकिन इस तरह की त्रासदी के इतने करीब होना भी हमारे दिलों को तोड़ने वाली बात है. एक ऐसे देश के लिए जिसने हमें वर्षों से इतना प्यार और समर्थन दिखाया है, मैं अपने साथी खिलाड़ियों के साथ मिलकर भारत में इस स्थिति को लेकर कुछ जागरूकता लाने में मदद कर सकता हूं.’

मौजूदा सत्र में पंजाब किंग्स के लिए छह मैच खेलने वाले पूरन से पहले उनकी फ्रैंचाइजी ने भी ऑक्सीजन कनसंट्रेटर्स दान करने का वादा किया था. पूरन ने कहा, ‘अब भी कई अन्य देश महामारी से प्रभावित हो रहे हैं. लेकिन भारत में मौजूदा स्थिति बेहद गंभीर है. मैं इस विकट स्थिति में वित्तीय सहायता के साथ जागरूकता लाने में अपनी भूमिका निभाऊंगा.’