नई दिल्ली. फुटबॉल का सबसे बड़ा मेला इस वक्त रूस में लगा है. 4 साल में एक बार लगने वाले फुटबॉल महाकुंभ में गोता लगाने यानी कि उसमें शिरकत करने की तमन्ना हर खिलाड़ी की होती है. लेकिन कुछ को ये मौका मिलता है और कुछ को नहीं. वहीं कुछ ऐसे भी खिलाड़ी होते हैं जिन्हें मौके तो मिल जाते हैं पर वो इसे गंभीरता से नहीं लेते, जिसका उन्हें खामियाजा भुगतना पड़ता है. रूस में फीफा वर्ल्ड कप के दौरान ऐसा ही एक वाक्या सामने आया है, जहां एक खिलाड़ी ने अपनी टीम के लिए ही खेलने से मना कर दिया. इसका नतीजा ये हुआ कि मैदान से सीधे उसकी घर वापसी का टिकट कटा दिया गया.

क्रोएशियाई खिलाड़ी की बगावत!

ये घटना रविवार को खेले क्रोएशिया बनाम नाइजीरिया मुकाबले की है. ग्रुप डी के इस मुकाबले में क्रोएशियाई फॉरवर्ड निकोला केलिनिच को प्लेइंग इलेवन में शामिल नहीं किया गया था और उसे बेंच पर बिठाया गया था. लेकिन मैच के 85वें मिनट में क्रोएशियाई कोच ने निकोला को मैदान पर उतारने का फैसला किया, जिसे उसने मानने से इंकार कर दिया. कोच ने निकोला को सब्सटिट्यूट के तौर पर मैदान पर उतरने का फैसला किया था लेकिन इस खिलाड़ी ने अपनी पीठ में दर्द होने का हवाला देते हुए कहा कि वो मैदान पर नहीं उतरेंगे. इसके बाद कोच को मजबूरी में दूसरा विकल्प ढूंढना पड़ा और उन्होंने मार्को जाका को मैदान पर उतारा.

क्या है टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और FIFA वर्ल्ड कप में इंग्लैंड की जीत का कनेक्शन?

क्या है टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और FIFA वर्ल्ड कप में इंग्लैंड की जीत का कनेक्शन?

खेलने से इंकार के बाद कटा घर का टिकट

क्रोएशिया के कोच अपने फॉरवर्ड की इस हरकत से खुश नहीं है और इसी वजह से उनको वापस घर भेजने का फैसला लिया गया. क्रोएशिया ने इस मैच में नाइजीरिया को 2-0 से मात दी थी. बता दें कि निकोला को फियोरेंटीना क्लब की तरफ से अच्छा प्रदर्शन करने के बाद पिछले साल एसी मिलान में शामिल किया गया था.