भारतीय टीम के पूर्व विस्‍फोटक बल्‍लेबाज युवराज सिंह का मनना है कि रिषभ पंत के पास नंबर चार पर खेलने के लिए पर्याप्‍त अनुवन नहीं है. अनुभवहीनता के कारण ही वो वर्ल्‍ड कप में फ्लॉप रहे थे.

हरमनप्रीत कौर, स्‍मृति मंधाना ने बनाई बिग बैश लीग से दूरी, यह है वजह

विश्‍व कप 2019 में नंबर-4 के स्‍थाई विकल्‍प के साथ नहीं उतरने के लिए भी युवराज सिंह ने टीम मैनेजमेंट की जमकर खिंचाई की. आजतक के कार्यक्रम में युवराज सिंह ने कहा, “आपको इस बात का निर्णय लेना होगा कि कौन सा खिलाड़ी आपका बेस्‍ट टैलेंट है और उसका चार नंबर के लिए बचाव करने की जरूरत थी.”

युवराज ने कहा, “वर्ल्‍ड कप के दौरान भारत का नंबर-4 की जगह पर सर्वश्रेष्‍ठ स्‍कोर 48 रन था.  कप्‍तान, कोच और चयनकर्ता को यह समझना चाहिए था कि नंबर-4 कितनी महत्‍वपूर्ण जगह है. खासतौर पर इंग्‍लैंड की परिस्थितियों में जहां बॉल काफी सीम होती है. यहां किसी तकनीकि रूप से मजबूत खिलाड़ी को जगह दी जानी चाहिए थी. विजय शंकर और रिषभ पंत के पास इस स्‍थान के लिए सही अनुभव नहीं है. दिनेश कार्तिक के पास नंबर चार पर खेलने का अनुभव था, लेकिन उन्‍हें सीधा सेमीफाइनल में खेलने का मौका दिया गया.”

भारतीय दिग्गज सौरव गांगुली बने दूसरी बार बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष

युवराज सिंह ने कहा, “हर खिलाड़ी को खेलने से पहले सुरक्षा की भावना होनी चाहिए. मुझे समझ नहीं आता कि हमारा थिंक टैंक क्‍या कर रहा था. अगर आपको किसी खिलाड़ी से उसका सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन लेना है तो उसे सुरक्षा की भावना भी साथ में देनी पड़ेगी. यहीं कारण है जिसकी वजह से भारत वर्ल्‍ड कप नहीं जीत पाया.”