नई दिल्ली : भारतीय कोच रवि शास्त्री ने गुरुवार को कहा कि वनडे टीम में अब कोई छेड़छाड़ और बदलाव नहीं किया जाएगा क्योंकि दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पांच जून को विश्व कप से पहले अब भारत को सिर्फ 13 मैच और खेलने हैं. शास्त्री ने संकेत दिए कि वे अब से उनके 15 खिलाड़ियों के साथ ही खेलेंगे जिनके विश्व कप के लिए ब्रिटेन जाने की संभावना है. ऑस्ट्रेलिया दौरे पर रवाना होने से पूर्व आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में शास्त्री ने स्पष्ट किया, ‘‘हम उन 15 खिलाड़ियों को खिलाने का प्रयास करेंगे जो विश्व कप के लिए जाएंगे. अब बदलाव नहीं होंगे. बदलाव का समय खत्म हो गया है.’’ Also Read - COVID-19: कोरोनावायरस से छिड़ी जंग में सुरेश रैना ने मदद को बढ़ाया हाथ, डोनेट किए 52 लाख रुपये

उन्होंने कहा, ‘‘अब समय आ गया है कि अपना ध्यान केंद्रित करें और इकाई के रूप में खेलें और फिर उम्मीद करते हैं कि चोटों की अधिक समस्या नहीं होगी जिससे कि हमें अन्य खिलाड़ियों की ओर नहीं देखना पड़े.’’ शास्त्री ने कहा, ‘‘हमारे पास अब काफी मैच नहीं बचे हैं. हमारे पास 13 मैच हैं इसलिए हम हर समय सर्वश्रेष्ठ टीम को खिलाने का प्रयास करेंगे.’’ Also Read - COVID-19: 'टीम इंडिया के खिलाड़ियों को प्रैक्टिस के लिए जगह की कमी पहुंचा सकती है नुकसान'

AUSvsIND: कोहली को टीम इंडिया के गेंदबाजों पर भरोसा, बल्लेबाजों को दी प्रदर्शन सुधारने की नसीहत Also Read - COVID-19: केएल राहुल LockDown में भी खुद को फिट रखने के लिए कर रहे हैं ये काम, देखें VIDEO

इन 13 मैचों में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उसकी सरजमीं पर तीन मैचों की श्रृंखला और फिर न्यूजीलैंड में पांच मैचों की श्रृंखला है. आस्ट्रेलियाई टीम भी इसके पांच एकदिवसीय मैचों की श्रृंखला के लिए भारत आएगी. भारत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ छह दिसंबर से एडिलेड में चार टेस्ट की श्रृंखला खेलेगा और शास्त्री ने कहा कि टीम इंडिया को दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में अपने अनुभव से सीखना होगा.

उन्होंने कहा ‘‘मुझे सभी प्रारूपों में काफी प्रगति नजर आती है और मैं इंग्लैंड में श्रृंखला के नतीजे के बाद भी ऐसा कह रहा हूं. हमारे लिए प्रतिकूल परिस्थितियों में अगर आप असल प्रदर्शन देखो तो हमें खुशी है.’’

IPL 2019: मुंबई इंडियंस ने 10 खिलाड़ियों को टीम से किया बाहर, 18 खिलाड़ी हुए रिटेन

कोच को उम्मीद है कि खिलाड़ी पिछले दौरों के अपने अनुभव से सीखेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘यह सीखने की प्रक्रिया है. अगर हम दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में की गलतियों से सीखेंगे तो यह ऑस्ट्रेलिया में हमारे लिए फायदेमंद रहेगा.’’ शास्त्री ने कहा, ‘‘बेशक टेस्ट क्रिकेट अलग है, विश्व कप से पूर्व यह आखिरी श्रृंखला होगी. इसलिए ध्यान पूरी तरह से इसी श्रृंखला पर होगा.’’