नई दिल्ली. न्यूजीलैंड के खिलाफ हैमिल्टन वनडे में टीम इंडिया का प्रदर्शन चौकाने वाला रहा. भारत को सनसनीखेज हार से दो चार होना पड़ा. मौजूदा वनडे सीरीज में पहली बार टीम इंडिया एक ऐसा मुकाबला खेलने उतरी थी, जिसमें न तो विराट उसके साथ थे और न ही धोनी नाम का भरोसा पास था. अब जब इन दोनों के बगैर टीम इंडिया का टेस्ट हुआ तो वो बुरी तरीके से फेल हो गए. हैमिल्टन में खेले चौथे वनडे में टीम इंडिया चारो खाने चित्त हो गई. भारतीय टीम 100 रन का आंकड़ा भी नहीं पार कर सकी और सिर्फ 92 रन पर ऑलआउट हो गई.

हैमिल्टन में हाहाकार… भारतीय बल्लेबाजों ने एक-दूजे से कहा- तू चल मैं आया यार!

212 गेंदे शेष रहते जीता न्यूजीलैंड

हैमिल्टन वनडे में भारत को हराने के लिए न्यूजीलैंड ने सिर्फ 88 गेंदे खेली. यानी, 212 गेंदे शेष रहते ही उसने टीम इंडिया का किला फतह कर लिया. सबसे ज्यादा बॉल बाकी रहते ये किसी भी टीम की भारत के खिलाफ सबसे बड़ी जीत है.

विराट-धोनी के बगैर फेल

टीम इंडिया के पास ओपनिंग में रोहित, धवन का अनुभव तो था लेकिन विराट और धोनी के बगैर मिडिल ऑर्डर अनुभवहीन था. न्यूजीलैंड ने हैमिल्टन में भारतीय टीम की इसी कमजोर नब्ज पर अटैक किया और उसे ढेर भी किया. कीवी गेंदबाजों ने रोहित और धवन को जल्दी समेटने के बाद अनुभवहीन भारतीय मिडिल ऑर्डर कोभी देखते ही देखते ध्वस्त कर दिया.

टीम इंडिया की हैमिल्टन वनडे में बड़ी हार, न्यूजीलैंड ने सिर्फ ’88 गेंदों’ में जीता मैच

एक रिकॉर्ड ऐसा भी..

न्यूजीलैंड ने 33 रन पर टीम इंडिया के पहले 5 विकेट गिरा दिए. ऐसा पहली बार हुआ कि इतने कम स्कोर पर वनडे में भारत के टॉप 5 ने घूटने टेक दिए. इसके बाद खतरा टीम इंडिया के सबसे लोएस्ट स्कोर के टूटने पर भी मंडराने लगा. उस शर्मनाक रिकॉर्ड का भागीदार बनने से तो टीम इंडिया ने खुद को बचा लिया पर शर्मनाक हार को नहीं टाल सके.