नॉटिंघम। बेहतरीन फॉर्म में चल रहे कप्तान विराट कोहली के 23वें टेस्ट शतक की बदौलत भारत ने तीसरे क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन आज यहां इंग्लैंड को जीत के लिए रिकार्ड 521 रन का लक्ष्य दिया. इंग्लैंड ने भारत के 521 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए तीसरे क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन दूसरी पारी में बिना विकट खोए 23 रन बनाए. इंग्लैंड की टीम अब भी लक्ष्य से 498 रन दूर है. एलिस्टेयर कुक नौ जबकि कीटोन जेनिंग्स 13 रन बनाकर खेल रहे हैं. Also Read - IPL 2020: युवा ओपनर देवदत्त पडीक्कल बोले-डेब्यू की खबर सुनते ही नवर्स हो गया था

Also Read - IPL 2020 SRH vs RCB Highlights: कोहली एंड कंपनी ने पिछले 3 सीजन से चले आ रहे पहले मैच की हार के मिथक को तोड़ा

कोहली ने 197 गेंद में 10 चौकों की मदद से 103 रन की पारी खेलने के अलावा चेतेश्वर पुजारा (72) के साथ तीसरे विकेट के लिए 113 और अजिंक्य रहाणे (29) के साथ चौथे विकेट के लिए 57 रन की साझेदारी भी की जिससे भारत ने सात विकेट पर 352 रन बनाने के बाद दूसरी पारी घोषित की. हार्दिक पंड्या ने भी अंत में 52 गेंद में सात चौकों और एक छक्के की मदद से नाबाद 52 रन की पारी खेली. Also Read - IPL 2020: आखिर क्यों विराट कोहली ने ट्विटर पर अपना नाम सिमरनजीत किया, जानिए पूरी डिटेल

इंग्लैंड ने इसके जवाब में दिन का खेल खत्म होने तक नौ ओवर में बिना विकेट गंवाए 23 रन बनाए. कीटोन जेनिंग्स 13 जबकि एलिस्टेयर कुक नौ रन बनाकर खेल रहे हैं. मेजबान टीम अब भी लक्ष्य से 498 रन दूर है. पांच दिवसीय क्रिकेट के इतिहास में कोई टीम चौथी पारी में 451 से अधिक रन नहीं बना पाई है. यह रिकॉर्ड न्यूजीलैंड के नाम दर्ज है जिसने मार्च 2002 में इंग्लैंड के खिलाफ क्राइस्टचर्च में 451 रन बनाए थे.

विराट को अनुष्का ने किया इंग्लैंड में शतक के लिए क्रेजी, रन बनाने का लगाया चस्का!

इंग्लैंड में चौथी पारी में सर्वाधिक रन का रिकॉर्ड भी न्यूजीलैंड के नाम दर्ज है जिसने नाटिंघम में ही मार्च 1973 में इंग्लैंड के खिलाफ 440 रन बनाए थे. इंग्लैंड की टीम स्वदेश में चौथी पारी में कभी छह विकेट पर 369 रन से अधिक नहीं बना सकी है. उसने यह स्कोर भारत के खिलाफ ही लंदन के द ओवल में अगस्त 2007 में बनाया था.

भारत ने दिन की शुरुआत दो विकेट पर 124 रन से की. नॉटिंघम में गर्म और उमस भरे दिन हालात बल्लेबाजी के लिए अनुकूल थे और कोहली तथा पुजारा ने किसी भी तरह की जल्दबाजी नहीं दिखाई. कोहली एक बार फिर अच्छी लय में दिखे जबकि पुजारा ने सुबह के सत्र में ठोस बल्लेबाजी की. भारत ने सुबह के सत्र में बिना विकेट गंवाए 70 रन जबकि दूसरे सत्र में एक विकेट पर 76 रन जुटाकर अपनी स्थिति मजबूत की.

जेम्स एंडरसन (55 रन पर एक विकेट) ने सुबह के सत्र में शानदार गेंदबाजी की और बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया. उन्होंने पहले घंटे में सात ओवर में तीन मेडन फेंकते हुए सिर्फ सात रन दिए. क्रिस वोक्स (49 रन पर एक विकेट) और बेन स्टोक्स (68 रन पर दो विकेट) ने भी किफायती गेंदबाजी की. भारतीय बल्लेबाजों को कुछ मौके पर असमान उछाल के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा.

कोहली ने सीरीज में बनाए 400 से ज्यादा रन

एंडरसन पारी के 40वें ओवर में दुर्भाग्यशाली रहे जब उनकी गेंद पर दूसरी स्लिप में जोस बटलर ने पुजारा का कैच टपका दिया. पुजारा इस समय 40 रन बनाकर खेल रहे थे. इंग्लैंड की चिंता उस समय और बढ़ गई जब पारी के 44वें ओवर में विकेटकीपर जानी बेयरस्टा के बायें हाथ की मध्यमा अंगुली में चोट लगी और उन्हें एक्सरे के लिए ले जाना पड़ा. बटलर ने इसके बाद विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी संभाली.

पुजारा ने 147 गेंद में अपना 18वां टेस्ट अर्धशतक पूरा किया जो छह पारियों में उनका पहला अर्धशतक है. कोहली ने भी 82 गेंद में 50 रन पूरे किए. चाय के बाद भी भारतीय बल्लेबाजों ने सतर्क रवैया अपनाया. कोहली और पुजारा ने स्ट्राइक रोटेट करने के अलावा कुछ अच्छी बाउंड्री लगाई. कोहली अपनी इस पारी के दौरान इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज में 400 या इससे अधिक रन बनाने वाले भारत के छठे बल्लेबाज बने. उनसे पहले राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर (दोनों दो-दो बार) के अलावा मोहम्मद अजहरूद्दीन, सुनील गावस्कर और मुरली विजय यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं.