टीम इंडिया जब पिछली बार न्‍यूजीलैंड दौरे पर गई थी तब कप्‍तान केन विलियमसन ने पांच लगातार अर्धशतक लगाए थे. क्‍या बुधवार से शुरू हो रही वनडे सीरीज में भी भारतीय क्रिकेट टीम के लिए सबसे बड़ा खतरा विलियमसन ही होंगे. इसमें कोई संदेह नहीं कि विलियमसन का फॉर्म इस सीरीज के नतीजे पर बड़ा असर डाल सकता है, लेकिन टीम इंडिया को एक अन्‍य कीवी बल्‍लेबाज पर भी निगाहें जमाकर रखनी होंगी. इस बल्‍लेबाज का नाम है रॉस टेलर. न्‍यूजीलैंड टीम के सबसे अनुभवी बल्‍लेबाज टेलर पिछले दो साल से बेहतरीन फॉर्म में हैं. हाल के महीनों में टेलर ने अपनी बैटिंग का जो ट्रेलर दिखाया है, यदि टीम इंडिया उसकी काट नहीं ढूंढ पाती है तो इस सीरीज में उसकी जीत की फिल्‍म खराब भी हो सकती है.

साल 2006 से न्‍यूजीलैंड के लिए वनडे खेल रहे रॉस टेलर ने अब तक कुल 210 वनडे मैच खेले हैं. इसमें उन्‍होंने 47.91 की औसत से 7714 रन बनाए हैं. न्‍यूजीलैंड के लिए वनडे मैचों में सबसे ज्‍यादा रन बनाने के मामले में वे दूसरे नंबर पर हैं. हालांकि, भारत के खिलाफ उनका प्रदर्शन अब तक कुछ खास नहीं रहा है. टीम इंडिया के खिलाफ 26 मैचों में उन्‍होंने करीब 41 की औसत से 940 रन बनाए हैं. भारत के खिलाफ उनका एवरेज उनके करियर एवरेज से काफी कम है. लेकिन विराट कोहली के लिए चिंता की बात उनका हालिया फॉर्म है.

टेलर ने 2017 में 20 मैचों में 60.50 की औसत से 968 और साल 2018 के 11 मैचों में 91.28 की औसत से रन जुटरए हैं. 2019 में अब तक उन्‍होंने तीन ही मैच खेले हैं, लेकिन इसमें वे 93.66 की औसत से 281 रन बना चुके हैं. आंकड़ों पर नजर डालें तो टेलर घरेलू पिचों पर ज्‍यादा सफल रहते हैं. न्‍यूजीलैंड में उन्‍होंने अब तक 95 वनडे मैचों में उन्‍होंने 53.20 की औसत से रन बनाए हैं.

नेपियर वनडे: भारत की प्लेइंग इलेवन, इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका

टेलर के फॉर्म का अंदाजा इससे भी लगता है कि 2015 के वर्ल्‍ड कप के बाद वे वनडे क्रिकेट के दूसरे सफल बल्‍लेबाज रहे हैं. पहले नंबर पर निस्‍संदेह विराट कोहली हैं, लेकिन टेलर ने भी 69.72 की एवरेज से रन बनाए हैं. वनडे की पिछली 12 पारियों में केवल दो बार ऐसा हुआ है जब टेलर 50 से कम रन बनाकर आउट हुए हैं. पिछले छह मैचों में उनका न्‍यूनतम स्‍कोर 54 रन रहा है. इन छह पारियों में उन्‍होंने 137, 90, 54, 86, 80 और 181 रन बनाए हैं.

K फॉर कोहली या K फॉर केन विलियमसन? वनडे सीरीज में होगा फैसला कौन है बैटिंग का ‘किंग’

ऑस्‍ट्रेलिया में पहली बार टेस्‍ट और वनडे सीरीज जीतकर न्‍यूजीलैंड पहुंची टीम इंडिया आत्‍मविश्‍वास से लबरेज है. भारतीय टीम के बॉलिंग अटैक को भी दुनिया में सर्वश्रेष्‍ठ माना जा रहा है, लेकिन उनके सामने चुनौतियों की कमी नहीं है. कीवी टीम के ओपनर्स और नंबर तीन पर बल्‍लेबाजी करने वाली कप्‍तान केन विलियमसन भी बेहतरीन फॉर्म में हैं, लेकिन भारतीय गेंदबाज इन्‍हें सस्‍ते में पवेलियन भेजकर भी राहत की सांस नहीं ले सकते. इसका कारण यह है कि रॉस टेलर नंबर चार पर खुद तो जबरदस्‍त बैटिंग कर ही रहे हैं, अपने साथी बल्‍लेबाजों से भी अच्‍छा प्रदर्शन करवाने में सफल रहे हैं. यही कारण है कि वर्ल्‍ड कप, 2015 के बाद से वे टीम के लिए पार्टनरशिप खड़ी करने में भी सबसे आगे हैं. मतलब साफ है कि टेलर को आउट किए बिना भारत जीत के बारे में सोच भी नहीं सकता. यदि टीम इंडिया के गेंदबाज टेलर पर नकेल नहीं कसते हैं तो टीम के लिए न्‍यूजीलैंड में अपना वनडे रिकॉर्ड सुधारने ओर सीरीज जीतने का ख्‍वाब अधूरा रह सकता है.