भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के लिए मौजूदा न्यूजीलैंड दौरा बतौर बल्लेबाज उनकी ख्याति के अनुरूप नहीं रहा. कोहली मेजबान टीम के खिलाफ 2 मैचों की टेस्ट सीरीज में संघर्ष करते हुए नजर आए. कीवी गेंदबाजों ने उन्हें खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया जिससे भारतीय कप्तान पिछली 4 पारियों में सस्ते में पवेलियन लौट गए. न्यूजीलैंड के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने कोहली के खिलाफ टीम की ओर से बनाई गई रणनीति के बारे में रविवार को खुलकर बताया. Also Read - पिता बनने वाले हैं हार्दिक पांड्या, बधाई देने में कप्तान विराट कोहली से आगे निकले रवि शास्त्री

‘जब तक मैं अच्छी गेंदबाजी रहा हूं तब तक मुझे आलोचनाओं से कोई फर्क नहीं पड़ता’ Also Read - विराट कोहली से नहीं डरता है ये पाकिस्तान तेज गेंदबाज; कहा- मुझे चुनौती पसंद

बोल्ट ने कहा कि विराट कोहली जैसे विश्व स्तरीय बल्लेबाज को दबाव में लाकर गलतियां करते हुए देखना काफी अच्छा था. बोल्ट ने भारत के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 12 रन देकर 3 विकेट चटकाए जिससे भारतीय टीम स्टंप तक दूसरी पारी में छह विकेट गंवा चुकी थी. टीम 90 रन बनाकर खेल रही थी और उसकी कुल बढ़त 97 रन की हो गई है. Also Read - विराट कोहली जल्‍द ही टिक-टॉक पर कर सकते हैं डेब्‍यू, अश्विन से इंस्‍टाग्राम चैट के दौरान दिया हिंट

मेजबानों ने पूरी टेस्ट सीरीज में खतरनाक कोहली को बड़ी पारी नहीं खेलने दी जो 20 रन के स्कोर तक भी नहीं पहुंच सके.

बोल्ट से जब पूछा गया कि कोहली को रोके रखने का राज क्या है तो उन्होंने कहा, ‘वह (कोहली) दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक है, इसमें कोई शक नहीं.’ उन्होंने कहा कि उनकी टीम की रणनीति बाउंड्री गेंद सीमित संख्या में डालकर कोहली को दबाव में लाने की थी.

बोल्ट ने कहा, ‘निश्चित रूप से वह इन्हें बहुत बढ़िया तरीके से खेलते हैं और हमने उनपर काफी दबाव बनाने की कोशिश की, इन बाउंड्री गेंद को कम रखकर उसके बल्ले को चुप रखा और उसे कुछ गलतियां करते हुए देखना अच्छा था.’

जसप्रीत बुमराह बोले- हमें रिषभ पंत और हनुमा विहारी की क्षमताओं पर भरोसा है

भारतीय बल्लेबाजी लाइन अप को मूव करती हुई गेंदों पर काफी परेशानी हो रही थी. इस पर बोल्ट ने कहा, ‘शायद, वे भारत में नीची और धीमी पिचों पर खेलने के आदी हैं और उन्हें यहां सांमजस्य बिठाने में समय लगा. उसी तरह अगर मैं भारत में गेंदबाजी करूंगा तो वो हालात मेरे लिए अलग ही होंगे.’