भारतीय हॉकी टीम के पूर्व खिलाड़ी बलबीर सिंह खुल्लर का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया. वह 77 वर्ष के थे. उनके परिवार में पत्नी, एक बेटा और दो बेटियां हैं. बलबीर सिंह उस टीम का हिस्सा थे जिसने मैक्सिको 1968 ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था. Also Read - हॉकी इंडिया ने खेलरत्न के लिए महिला हॉकी कप्तान रानी रामपाल का नाम भेजा

विराट कोहली को किस तरह कीवी गेंदबाजों ने गलती करने पर किया मजबूर, बोल्ट ने किया खुलासा Also Read - कोरोना वायरस पॉजिटिव रसोइये की मौत के बावजूद साई केंद्र में ही रहेंगे हॉकी खिलाड़ी

उनका बेटा कमलबीर सिंह अमेरिका में हैं, उन्होंने रविवार को पीटीआई से कहा, ‘मेरे पिता को मेरे साथ अमेरिका जाना था लेकिन अचानक उन्हें दिल का दौरा पड़ा और शुक्रवार दोपहर को जालंधर जिले में संसारपुर में हमारे पैतृक निवास पर उनका निधन हो गया.’ Also Read - गरीबों को खाना खिलाने के लिए फंड इकट्ठा करेगी भारतीय महिला हॉकी टीम

खुल्लर का दाह संस्कार सोमवार को किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘उनका अंतिम संस्कार सोमवार को किया जाएगा क्योंकि मेरा बेटा और उनका पोता अभी अमेरिका से आया है. मेरी बड़ी बहन कनाडा में रहती है और दूसरी अमेरिका में, वे भी रविवार को पहुंचे हैं.’

पंजाब के जालंधर जिले के संसारपुर में जन्में बलबीर ने 1963 में फ्रांस के लियोन में भारत की ओर से पदार्पण किया. उन्होंने भारतीय टीम में ‘इनसाइड फारवर्ड’ के रूप में प्रतिष्ठा हासिल की और बेल्जियम, इंग्लैंड, नीदरलैंड और पश्चिम जर्मनी जैसे देशों का दौरा किया.

बलबीर 1966 में बैंकॉक एशियाई खेलों में स्वर्ण और 1968 में मैक्सिको में हुए ओलंपिक में कांस्य पदक जीतने वाली भारतीय टीम के सदस्य थे. हॉकी इंडिया ने खुल्लर के निधन पर शोक व्यक्त किया जो भारतीय राष्ट्रीय टीम के चयनकर्ता भी रह चुके थे.

राफेल नडाल ने करियर का 85वां एटीपी खिताब जीता, डेविड फेरर के क्लब में हुए शामिल

हाकी इंडिया ने ट्वीट किया, ‘हमें अपने पूर्व हॉकी खिलाड़ी और ओलंपिक पदक विजेता टीम के सदस्य रहे बलबीर सिंह खुल्लर की निधन का दुख है. हम उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करते हैं. इस दुख की घड़ी में हॉकी इंडिया की ओर से हमारी प्रार्थनाएं बलबीर सिंह खुल्लर और उनके मित्रों के साथ हैं.’