ट्रेंटब्रिज: विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया कामयाबी के नए रिकॉर्ड बना रही है. 2014 में ऑस्ट्रलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज में कोहली के कप्तान बनने के बाद से भारतीय टीम को केवल दो सीरीज में हार का सामना करना पड़ा है. इस दौरान टीम श्रीलंका, दक्षिण अफ्रीका, न्यूजीलैंड, इंग्लैंड, बांग्लादेश, ऑस्ट्रेलिया और अफगानिस्तान को हरा चुकी है. केवल ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक-एक सीरीज में उसे हार का सामना करना पड़ा है. ट्रेंटब्रिज टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ मिली जीत कोहली की कप्तानी में भारत की 22वीं जीत है. कोहली अब तक 38 मैचों में टीम के कप्तान रहे हैं.

अपनी कप्तानी में भारतीय टीम को सबसे ज्यादा जीत दिलाने के मामले में पहले नंबर पर महेंद्र सिंह धोनी हैं. उनकी कप्तानी में खेले 60 टेस्ट मैचों में से 27 में भारत को जीत मिली थी. ट्रेंट ब्रिज टेस्ट से पहले तक कोहली और सौरव गांगुली 21-21 जीतों के साथ दूसरे नंबर पर थे. लेकिन कोहली अब गांगुली से आगे निकल चुके हैं. हालांकि, गांगुली की कप्तानी में 21 जीत हासिल करने के लिए टीम ने 49 टेस्ट मैच खेले थे. कोहली की कप्तानी में 38वें टेस्ट में ही कोहली ने गांगुली को पीछे छोड़ दिया.

अपनी कप्तानी में सबसे ज्यादा टेस्ट मैच जीतने की इस दौड़ में कोहली मोहम्मद अजहरूद्दीन को काफी पहले ही पीछे छोड़ चुके हैं. अजहर की कप्तानी में भारतीय टीम ने 47 टेस्ट खेले थे. इनमें से 14 में उन्होंने टीम को जीत दिलाई थी.

भारतीय टेस्ट टीम के सबसे सफल कप्तान बनने के लिए कोहली के रास्ते में अब केवल धोनी का रिकॉर्ड ही बचा है. लेकिन उनकी कप्तानी में टीम जिस तेजी से विपक्षी टीमों को धूल चटा रही है, उसे देखते हुए इसमें कोई शक नहीं कि कोहली यह उपलब्धि भी जल्द अपने नाम कर लेंगे.