बांग्लादेश क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मशरफे मुर्तजा ने जिम्बाब्वे के खिलाफ पिछली घरेलू सीरीज के बाद कप्तानी के पद से इस्तीफा दे दिया था. उन्होंने हालांकि अपने संन्यास की योजना के बारे में कुछ नहीं बताया था. टीम के गेंदबाजी कोच ओटिस गिब्सन ने बांग्लादेश के इस शीर्ष गेंदबाज को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की सलाह देते हुए कहा कि वह मुख्य कोच रसेल डोमिंगो की 2023 विश्व कप योजना में शायद फिट नहीं बैठे. Also Read - शाकिब अल हसन ने मशरफे मुर्तजा को बताया सच्चा योद्धा, कहा- आप अच्छे कप्तान की मिसाल

गिब्सन जनवरी में बांग्लादेश के गेंदबाजी कोच नियुक्त हुए है. यह पहली बार है जब टीम का कोई कोचिंग सदस्य खुल कर मुर्तजा को संन्यास लेने की सलाह दे रहा है. उन्होंने कहा कि डोमिंगो को अगले तीन साल में कई युवा गेंदबाजों को देखना होगा, इसका मतलब यह हुआ कि उन्हें मुर्तजा से परे दूसरे गेंदबाजों को परखना होगा. Also Read - बांग्‍लादेश की वनडे कप्‍तानी से मशरफे मुर्तजा की छुट्टी, ये है वजह

‘मुर्तजा का इंटरनेशनल करियर शानदार रहा है’ Also Read - Pink Ball Test INDvBAN: भारत ने Day-Night टेस्ट में बांग्लादेश को पारी और 46 रन से रौंदा, सीरीज पर 2-0 सेे कब्जा

गिब्सन ने बांग्लादेश के अखबार ‘डेली प्रथम’ से कहा, ‘मुझे लगता है कि मुर्तजा का अंतरराष्ट्रीय करियर शानदार रहा है. उनके प्रदर्शन पर देश को गर्व है. अगला विश्व कप 2023 में है और कोई भी अंतरराष्ट्रीय कोच अभी से टीम बनाना शुरू कर देगा. वह युवा खिलाड़ियों को परखना चाहेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘बांग्लादेश के पास हसन महमूद, मोहम्मद सैफुद्दीन, शफिउल इस्लाम और इबादत हुसैन के अलावा तस्कीन अहमद और खालिद हसन जैसे शानदार युवा प्रतिभा है.

टीम में निभा सकते हैं मार्गदर्शक की भूमिका 

उन्होंने कहा कि बांग्लादेश के लिए एकदिवसीय में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले मुर्तजा युवा गेंदबाजों के लिए मार्गदर्शक की भूमिका निभा सकते है.

उन्होंने कहा, ‘अगर रसेल भविष्य के लिए टीम बनाना चाहते हैं तो मुझे नहीं पता कि मुर्तजा उस में क्या भूमिका निभाएंगे. मुझे लगता है मुर्तजा लिए अब आगे बढ़ने का समय है. वह अपने अनुभव और ज्ञान से युवा खिलाड़ियों की मदद कर सकते है. मुझे नहीं लगता कि इसके लिए उन्हें मैदान में खेलने की जरूरत है. वह मैदान के बाहर से भी ऐसा कर सकते है.’

खेल चुके हैं 218 वनडे 

मुर्तजा पहले ही टेस्ट और टी20 अंतरराष्ट्रीय से संन्यास ले चुके है. उन्होंने 218 वनडे में 269 विकेट लिए हैं.