कराची: मैच फिक्सिंग के दोषी पाये गये पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट एक बार फिर से फिक्सिंग के मामले में फंसते नजर आ रहे है. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की भ्रष्टाचार रोधी इकाई ने इस बात की पुष्टि की है कि वे हाल ही में संपन्न हुए अजमान ऑल स्टार टी20 लीग की जांच कर रही है जहां बट को भी देखा गया था. Also Read - IPL पर मैच फिक्सिंग का साया ? खिलाड़ी से किया गया संपर्क, ACU ने शुरू की जांच

बट और तेज गेंदबाज मोहम्मद आसिफ पर स्पॉट फिक्सिंग के मामले में 2010 में पांच साल का प्रतिबंध लगा था. ये दोनों खिलाड़ी पाकिस्तान के कुछ अन्य खिलाड़ियों के साथ इस निजी टूर्नामेंट का हिस्सा थे. Also Read - CWC 2011 फाइनल में फिक्सिंग के आरोपों पर ICC ने तोड़ी चुप्‍पी, कहा- इस तरह से तो...

टूर्नामेंट के प्रसारण फुटेज देखने का बाद आईसीसी हरकत में आयी. वीडियो में कुछ खिलाड़ियों को विवादित तरीके से आउट होते देखा गया जबकि कुछ का व्यवहार संदेहास्पद था. Also Read - स्पॉट फिक्सिंग मामले में नाम आने के बाद आत्महत्या के विचार से जूझ रहे थे श्रीसंत

इस निजी लीग को एमिरात क्रिकेट बोर्ड और अजमान क्रिकेट परिषद ने गैरकानूनी करार दिया था जिसके बाद भी बट और आसिफ के अलावा पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी हसन रजा और मुहम्मद खलील ने भी इसमें भाग लिया था.

बट ले पीटीआई से कहा, ‘‘स्पॉट फिक्सिंग मामले में फंसने के बाद मैं ऐसे विवादों से दूर रहने की कोशिश करता हूं. मैं खुश हूं की आईसीसी इसकी जांच कर रही है क्योंकि इसमें कई खामियां थी. मैंने वहां सिर्फ दो मैच खेले और फिर दुबई चला गया.’’

उन्होंने कहा, ‘‘ मैं वहां इस लिए गया था क्योंकि मुझे लाहौर की एकदिवसीय टीम में नहीं चुना गया था. लेकिन जब मै वहां पहुंचा तब मुझे पता चला कि यह एमेच्योर टूर्नामेंट हैं जहां ना तो कोई मैच रेफरी था, ना ही आईसीसी भ्रष्टाचार रोधी इकाई का अधिकारी और स्कोरर.’’